PM मोदी का एलान- ‘भूपेन हजारिका’ होगा देश के सबसे लंबे धौला-सादिया पुल का नाम

0

मोदी सरकार को आज(26 मई) तीन साल पूरे हो चुके हैं। इसी को लेकर मोदी सरकार ने जश्न भी शुरू कर दी हैं। तीन साल के सफल कार्यकाल पर आज असम में एक भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया है। इस मौके पर पीएम मोदी आज असम के दौरे पर हैं और वहां देश के सबसे लंबे पुल ढोला-सदिया पुल समेत कई परियोजनाओं का उद्घाटन किया।

फोटो: @PMOIndia

सरकार के तीन साल पूरे होने के उपलक्ष में पीएम मोदी ने देश को असम और अरुणाचल को जोड़ने वाले सबसे बड़े पुल ‘ढोला सदीया सेतु’ का उद्घाटन कर तोहफा दिया है। ये पुल चीन की सीमा के नजदीक भारत में किसी नदी पर बना सबसे लंबे पुल है। ये पुल 182 खंभों पर टिका हुआ है। यह मुंबई के बांद्रा वर्ली सी लिंक पुल से 3.55 किलो मीटर लंबा है।

पुल का उद्घाटन करने के बाद पीएम मोदी ने एक जनसभा को भी संबोधित किया। अपने संबोधन के दौरान उन्होंने इस धौला-सादिया पुल का नाम असम के मशहूर लोकगायक भूपेन हजारिका के नाम पर रखने का ऐलान किया। मोदी ने कहा कि हजारिका पूरी जिंदगी ब्रह्मपुत्र नदी का गुणगान करते रहे।

उन्होंने कहा कि आने वाली पीढ़ियों को उनके योगदान के बारे में याद दिलाते रहने के लिए केंद्र सरकार ने धौला-साकिया पुल का नाम बदलकर भूपेन हजारिका रखने का फैसला किया है। बता दें कि यह पुल देश के दो पूर्वोत्तर राज्यों असम और अरुणाचल प्रदेश को जोड़ने का काम करेगा।

यह ब्रह्मपुत्र नदी के ऊपर बना है जिसका एक छोर अरुणाचल प्रदेश के ढोला में और दूसरा छोर असम के सदिया में पड़ता है। यह पुल असम की राजधानी दिसपुर से 540 किलोमीटर दूर और अरुणाचल प्रदेश की राजधानी इटानगर से 300 किलोमीटर दूर है। चीनी सीमा से हवाई दूरी 100 किलोमीटर से कम है।

पुल का निर्माण साल 2011 में शुरू हुआ था और परियोजना की लागत 950 करोड़ रूपये थी। प्रधानमंत्री ने जिस 9.15 किलोमीटर पुल का उद्घाटन किया, इससे असम और अरुणाचल प्रदेश के बीच यात्रा का समय छह घंटे से कम होकर एक घंटा रह जाएगा। यह पुल 60 टन वजनी युद्धक टैंक का भार भी वहन करने में सक्षम है।

इस पुल को चीन भारत सीमा पर, खास तौर पर पूर्वोत्तर में भारत की रक्षा जरूरतों को पूरा करने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। इसके अलावा यह पुल अरुणाचल प्रदेश और असम के लोगों के लिए हवाई और रेल संपर्क के अलावा सड़क संपर्क भी आसान बनाएगा।

इस पुल को इतना मजबूत बनाया गया है कि 60 टन के मेन बैटल टैंक भी गुजर सकें। इतना ही नहीं ये भूकंप के झटके भी आसानी से झेल सकता है। इस दौरान पीएम मोदी एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे और जनता के सामने तीन साल में किए गए कामों को रखेंगे।2014 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी को जबरदस्त जीत दिलाने के बाद उस साल 26 मई को मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी। तीन साल पूरे होने के जश्न के रूप में मोदी सरकार आज से 15 जून तक 900 जगहों पर अलग-अलग कार्यक्रम करेगी। इस कार्यक्रम को नाम दिया गया है मेकिंग ऑफ डेवलप्ड इंडिया यानी मोदी।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here