सोशल मीडिया पर बहिष्कार अभियान के बावजूद ‘चाइनीज सामानों’ की भारत में रिकॉर्ड बिक्री

0

जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर पर प्रतिबंध का चीन द्वारा संयुक्त राष्ट्र में विरोध करने के बाद भारत में चीनी सामानों के बहिष्कार का अभियान जारी है, लेकिन इसके बावजूद त्योहारी मौसम में भारत में चीनी माल की रिकॉर्ड बिक्री हुई है. यह जानकारी यहां के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के लेख में दी गई है।

लेख के अनुसार, ‘भारत में दीवाली सबसे बड़ा खरीदारी मौसम है और हिंदुओं का सबसे प्रमुख त्योहार भी है. लेकिन पिछले कुछ दिनों से भारतीय सोशल मीडिया पर चीनी सामान के बहिष्कार के लिए अभियान चलाया जा रहा है और कुछ राजनेता भी तथ्यों को बढ़ा-चढ़ा कर पेश कर रहे हैं।

Also Read:  Angry over non-payment of salary, DDCA staff threatens to boycott Indi-SA Test
Photo courtesy: indian express
Photo courtesy: indian express

लेख में कहा गया है, ‘हालांकि भारत में चीनी सामानों के लिए बिना परवाह के बहिष्कार अभियान चलाने और भारतीय मीडिया द्वारा चीनी सामानों का ‘बुरा दिन’ आने की रपटें दिखाने के बावजूद भारत सरकार ने कभी भी चीनी उत्पादों की आलोचना नहीं की है और वह पूरे देश में काफी लोकप्रिय हैं।’

Also Read:  जयललिता के साथ हर सुख-दुख में रहनें वाली शशिकला नटराजन ताबूत के पास खड़ी रहीं उदास

भाषा की खबर के अनुसार, लेख के अनुसार बहिष्कार का यह अभियान सफल नहीं हुआ है. देश के तीन प्रमुख ई-वाणिज्य खुदरा बिक्री मंचों पर चीनी उत्पादों की अक्टूबर के पहले हफ्ते में रिकॉर्ड बिक्री हुई है. चीन की हैंडसेट कंपनी शियोमी ने फ्लिपकार्ट, आमेजन इंडिया, स्नैपडील और टाटा क्लिक जैसे मंचों पर मात्र तीन दिन में पांच लाख फोनों की बिक्री की है। लेख में कहा गया है कि जब भी भारत में क्षेत्रीय मुद्दों पर तनाव बढ़ता है तो अक्सर चीनी उत्पाद उसका शिकार बनते हैं और यह धारणा पिछले कुछ सालों से देखने को मिल रही है।

Also Read:  अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, 'मैं और PM मोदी सोशल मीडिया के वैश्विक नेता हैं'

भारत-चीन संबंधों में द्विपक्षीय व्यापार मजबूत स्तंभों में से एक है. दोनों देशों के बीच 2015 में 70 अरब डॉलर का व्यापार हुआ था और चीन ने भारत में करीब 87 करोड़ डॉलर का निवेश किया. यह 2014 के मुकाबले छह गुना अधिक था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here