ऐसे हुआ नोटबंदी का पति-पत्नी के संबंधों पर असर, पत्नियों ने बदलवाने को दिए थे पुराने नोट, पतियों ने नहीं किए वापस

0

नोटबंदी से केवल आम लोग एवं किसान परेशान नहीं हुए, बल्कि इसने मियां-बीबी के बीच पैसे को लेकर तकरार भी पैदा की और इसके चलते मध्यप्रदेश में महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा की घटनाओं में भी वृद्धि हुई । पति-पत्नी के झगड़ों को सुलझाने के लिए बने परामर्श केन्द्रों में इस दौरान दर्ज होने वाले मामलों में बढ़ोतरी हुई है।

भाषा की खबर के अनुसार, गौरवी अध्यक्ष सारिका सिन्हा ने बताया, ‘नोटबंदी के बाद मध्यप्रदेश में घरेलू हिंसा के आंकड़े बहुत बढ़े हैं।’ गौरवी – वन स्टाप क्राइसिस सेन्टर है, जिसे मध्यप्रदेश शासन का लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग और एक्शनएड द्वारा संयुक्त रूप से चलाया जाता है।

सारिका ने कहा कि आठ नवंबर को नोटबंदी की घोषणा के बाद कई ऐसे मामले ‘गौरवी’ में आये, जिनमें महिलाओं ने अपने छुपाये हुए 500 रुपए एवं 1000 रुपए के पुराने नोटों को बैंकों से बदलने के लिए अपने पतियों को दिया, लेकिन बाद में उनके पतियों ने ये पैसे उन्हें वापस नहीं किए।

इस वजह से मियां-बीबी के बीच तकरार होने के कारण उनके संबंधों में खटास आई। सारिका ने कहा कुछ ऐसे भी मामले आए जिनमें पत्नियों द्वारा छुपाए गए 500 रुपए एवं 1000 रुपए के पुराने नोट 30 दिसंबर के बाद भी मिले। इनको लेकर भी पति-पत्नी के बीच झगड़े एवं मारपीट हुई, जिसके चलते घरेलू हिंसा के मामले दर्ज किए गए। परामर्श केंद्रों में दोनों पक्षों को समझा बुझाकर इन झगड़ों को खत्म कराया जा रहा है।

इसी बीच, गौरवी की संचालिका शिवानी सैनी ने बताया, ‘नवंबर से जनवरी तक उनके भोपाल स्थित ‘गौरवी केन्द्र’ में घरेलू हिंसा के लगभग 200 मामले रजिस्टर हुए हैं, जबकि इससे पहले लगभग 50 से 67 मामले प्रति माह आते थे।’ उन्होंने कहा कि जो 200 मामले महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा के आये, उनमें से अधिकतर मियां-बीबी के बीच नोटबंदी से हुई पैसे की कमी को लेकर हुए झगड़े एवं मारपीट की शिकायतें थी।

शिवानी ने कहा, ‘घरेलू हिंसा पहले भी होती थी, लेकिन नोटबंदी के बाद घरेलू हिंसा के मामले बहुत बढ़े हैं। परामर्श केंद्र में कई ऐसे मामले आये जिनमें महिलाओं ने शिकायत की कि नोटबंदी के बाद पैसे की तंगी के चलते उनके पति ने घर में रसोई गैस नहीं भरवाई, बच्चों के लिए खाने-पीने की चीजें नहीं लाए, रोजाना उपयोग में लाई जाने वाली आवश्यक वस्तुएं जैसे दूध, साग-सब्जी एवं फल नहीं लाए, क्योंकि वे बैंक से भी अपना पैसा नहीं निकाल पा रहे थे। इस समस्या के कारण भी कई परिवारों में आपसी झगड़े हुए।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here