केंद्र ने दिल्ली के केंद्रशासित राज्य के मुद्दे पर शीर्ष अदालत में कैवियट दायर किया

0

केंद्र ने उच्चतम न्यायालय में एक कैवियट दाखिल करके कहा है कि दिल्ली के केंद्रशासित प्रदेश के दर्जा मामले पर जब शीर्ष अदालत फैसला करे तो वह उसका भी पक्ष सुने। आप सरकार ने इस मुद्दे पर उच्च न्यायालय के हालिया फैसले को उच्चतम न्यायालय में चुनौती देने का फैसला किया है।

पीटीआई भाषा की एक खबर के अनुसार, दिल्ली सरकार ने उच्चतम न्यायालय से कहा कि वह एक सप्ताह के भीतर उच्च न्यायालय के उस फैसले को चुनौती देगी जिसमें कहा गया था कि संविधान के तहत दिल्ली अब भी केंद्रशासित प्रदेश है और उपराज्यपाल इसके प्रशासनिक प्रमुख हैं। गृह मंत्रालय ने यह कहते हुए शीर्ष अदालत में कैवियट दायर किया कि शीर्ष अदालत को इस मुद्दे पर उसका पक्ष भी सुनना चाहिए।

Also Read:  Kejriwal asks for SC monitored probe, Yechury questions police claims

शीर्ष अदालत ने पिछले सप्ताह कहा था कि वह आप सरकार के उस दीवानी मुकदमे पर सुनवाई करेगी जिसमें यह घोषणा करने की मांग की गई है कि दिल्ली एक राज्य है और उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ उसकी याचिका पर भी सुनवाई होगी जिसमें कहा गया था कि दिल्ली एक केंद्रशासित प्रदेश है और उपराज्यपाल इसके प्रशासनिक प्रमुख हैं।

Also Read:  दिल्ली के नगर-निगम चुनावों में बिजली-पानी के मुद्दों पर चुनाव लड़ेगी नीतीश की जदयू पार्टी

चार अगस्त को दिल्ली उच्च न्यायालय ने कहा था कि दिल्ली से संबंधित संविधान का अनुच्छेद 239 एए अनुच्छेद 239 के प्रभाव को हल्का नहीं करता है, जो केंद्रशासित प्रदेश से संबंधित है और इसलिए प्रशासनिक मामलों में उपराज्यपाल की सहमति अनिवार्य है।

Also Read:  एक बार फिर हेलिकॉप्टर हादसे में बाल-बाल बचे महाराष्ट्र के CM देवेंद्र फडणवीस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here