दिल्ली हिंसा: जामिया समिति ने BJP नेता कपिल मिश्रा की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की

0

जामिया समन्वय समिति ने सोमवार को पुलिस को मांगों का एक ज्ञापन सौंपकर कहा कि पूर्वोत्तर दिल्ली में कथित तौर पर हिंसा भड़काने के लिए भाजपा नेता कपिल मिश्रा को गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

कपिल मिश्रा

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, समिति ने जय सिंह रोड पर नए पुलिस मुख्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया था, लेकिन संयुक्त पुलिस आयुक्त (दक्षिणी रेंज) और प्रदर्शनकारियों की मुलाकात के बाद उन्हें निजामुद्दीन ले जाया गया। ज्ञापन में कहा गया है कि दिल्ली भाजपा नेता कपिल मिश्रा को उनके भाषणों और ट्वीट के माध्यम से पूर्वोत्तर दिल्ली में हिंसा भड़काने के लिए एफआईआर दर्ज कर तत्काल गिरफ्तार किया जाए।

उन्होंने उन 20 स्थानों के लिए सुरक्षा की भी मांग की जहां संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं। इन स्थानों में शाहीन बाग, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, मुस्तफाबाद, तुर्कमान गेट, खुरेजी, जामा मस्जिद, जाफराबाद मेट्रो स्टेशन शामिल हैं। उन्होंने मांग की कि विवादास्पद नागरिकता कानून के समर्थन में घटनाओं को इन साइटों के तीन किलोमीटर के दायरे में नहीं होने दिया जाना चाहिए।

बता दें कि, हाल ही में भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने अपना एक वीडियो शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा था, ”दिल्ली पुलिस को तीन दिन का अल्टीमेटम- जाफराबाद और चांद बाग की सड़कें खाली करवाइए इसके बाद हमें मत समझाइयेगा, हम आपकी भी नहीं सुनेंगे, सिर्फ तीन दिन।” कपिल मिश्रा ने जो वीडियो ट्वीट किया है इसमें वह दिल्ली पुलिस की मौजूदगी में एक सभा को संबोधित करते हुए कह रहे हैं, ”वे (प्रदर्शनकारी) दिल्ली में तनाव पैदा करना चाहते हैं, इसलिए उन्होंने सड़कें बंद कर दी हैं। इसीलिए उन्होंने यहां दंगे जैसे हालात पैदा कर दिए हैं। हमारी तरफ से एक भी पथर नहीं चलाए गए।”

उन्होंने वहां मौजूद लोगों से आगे कहा, “डीसीपी साहब हमारे सामने खड़े हैं। मैं आप सबकी तरफ से यह बात कह सकता हूं। अमेरिकी राष्ट्रपति के जाने तक तो हम शांति से जा रहे हैं। लेकिन, उसके बाद हम आपकी (पुलिस) भी नहीं सुनेंगे। अगर रास्ते खाली नहीं हुए तो। ट्रंप के जाने तक आप जाफराबाद और चांद बाग खाली करवा लीजिए ऐसी आपसी विनती करते हैं। इसके बाद हमें रोड पर आना पड़ेगा।”

बता दें कि, देश की राजधानी दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है। गोकुलपुरी में हुए उपद्रव में पुलिसकर्मी समेत 5 लोगों की मौत हो गई है, वहीं एक डीसीपी समेत कई पुलिसकर्मियों के घायल होने की खबर है। जाफराबाद और मौजपुर में सोमवार को हिंसा हुई। वहां सीएए के विरोध और समर्थन वाले लोग आमने-सामने आ गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here