JNU हिंसा: आक्रोशित छात्रों ने पुलिस को परिसर में फ्लैग मार्च करने से रोका, लगाए ‘दिल्ली पुलिस वापस जाओ’ के नारे, देखें वीडियो

0

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर में रविवार की रात को उस वक्त हिंसा भड़क गई थी जब लाठियों से लैस कुछ नकाबपोश बदमाशों ने छात्रों तथा शिक्षकों पर हमला किया, परिसर में संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जिसके बाद प्रशासन को पुलिस को बुलाना पड़ा। घटना के बाद दिल्ली पुलिस के देरी से पहुंचने पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। देर रात जब दिल्ली पुलिस ने परिसर में मार्च निकाला तो छात्रों ने ‘दिल्ली पुलिस वापस जाओ’ के नारे लगाए।

दिल्ली पुलिस

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) परिसर में कुछ देर की शांति के बाद सोमवार तड़के तनाव फिर बढ़ गया। आक्रोशित छात्रों ने विशेष पुलिस आयुक्त (कानून व्यवस्था) आर.एस. कृष्णया की अगुआई में परिसर में हो रहे पुलिस मार्च को अवरुद्ध कर दिया। छात्रों ने साबरमती टी-पॉइंट पर पुलिस मार्च रोक दिया। पुलिस ने हालांकि उन छात्रों के अवरोध से बचते हुए कनवेंशन सेंटर की तरफ मार्च जारी रखा। लेकिन उनके थोड़े ही आगे बढ़ते ही प्रदर्शनकारी छात्रों ने एक बार फिर पुलिस का मार्ग रोक दिया। छात्र पुलिस को लगातार जेएनयू परिसर के नॉर्थ गेट की तरफ खिसकाते रहे।

समाचार एजेंसी ANI ने इसका वीडियो जारी किया है, जो अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। रविवार शाम कुछ हमलावरों के एक समूह ने जेएनयू परिसर में छात्रों और जेएनयू स्टाफ पर हमला कर दिया था। कुछ लोगों का आरोप था कि हमलावर एबीवीपी कार्यकर्ता थे। जेएनयू प्रशासन ने परिसर में हिंसा के लिए रजिस्ट्रेशन पक्रिया का विरोध कर रहे छात्रों पर आरोप लगाया है।

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) परिसर में रविवार शाम अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के छात्र नेताओं और वामपंथी छात्रों के बीच हुई हिंसक झड़प में जेएनयूएसयू की अध्यक्ष ऐशे घोष सहित कई अन्य विद्यार्थी बुरी तरह से घायल हो गए। मारपीट में घोष को काफी चोटें आई हैं, हमलावरों ने टीचरों को भी नहीं छोड़ा।

हमले में जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आईशी घोष सहित कम से कम 30 लोग घायल हो गए जिन्‍हें इलाज के लिए एम्‍स में भर्ती कराया गया है। शाम को हुए इस बवाल के बाद जेएनयू, एम्‍स, दिल्‍ली पुलिस मुख्‍यालय के बाहर रातभर प्रदर्शन हुआ। बताया जा रहा है कि हिंसा शाम करीब पांच बजे शुरू हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here