किराया बढ़ने के बाद दिल्ली मेट्रो में यात्रियों की संख्या में आई भारी कमी

0

पिछले साल दिल्ली मेट्रो के बढ़े किराए का आम जनता के साथ दिल्ली मेट्रो पर इसका कितना असर पड़ा है उसके नतीजे अब सामने आ रहें है। सरकार ने मंगलवार (20 मार्च) को स्वीकार किया कि दिल्ली मेट्रो के यात्रियों की संख्या में कमी आई है। हालांकि सरकार ने कहा कि इस कमी की वजह सिर्फ किराए में वृद्धि नहीं बल्कि इसके कई दूसरे कारण भी हैं।दिल्ली मेट्रो

समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक लोकसभा में रंजनबेन भट्ट के प्रश्न के लिखित उत्तर में आवास एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि, ‘‘दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने सूचित किया है कि यात्रियों की संख्या में कमी आई है। सिर्फ किराए में वृद्धि के कारण यह कमी नहीं आई है बल्कि इसके लिए मौसम, छुट्टियां, अवकाश और त्यौहार जैसे कई कारण भी जिम्मेदार हैं।’’

सदस्य ने प्रश्न किया था कि क्या दिल्ली मेट्रो के किराए में बढ़ोतरी के कारण यात्रियों की संख्या में कमी आई है। एक अन्य प्रश्न के उत्तर में पुरी ने कहा कि किराय निर्धारण समिति ने वारिष्ठ नागरिकों, छात्रों और दिव्यांगों को किराये में रियायत देने की कोई सिफारिश नहीं की है।

उन्होंने यह भी बताया कि डीएमआरसी के वर्ष 2017-18 के वित्तीय खातों को अभी अंतिम रूप नहीं दिया गया है इसलिए लाभ/हानि के आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं। बता दें कि पिछले साल सूचना का अधिकार (आरटीआई) के जवाब में खुलासा हुआ था कि 10 अक्टूबर को किराया बढ़ने के बाद हर रोज तीन लाख से ज्यादा यात्री कम हुए हैं।

पिछले साल मेट्रो में रोजाना सफर करने वाले औसत यात्रियों की संख्या सितंबर महीने में 27.4 लाख थी, जो घटकर अक्टूबर में 24.2 लाख रह गई। यात्रियों की तादाद में यह करीब 11 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी। साथ ही मेट्रो ट्रेन में यात्रियों की संख्या घटने के साथ ही स्मार्ट कार्ड की बिक्री में भी गिरावट दर्ज की गई थी। यह खुलासा सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत डीएमआरसी से मिले एक सवाल के जबाव से हुआ था।

बता दें कि, गत वर्ष 8 मई को डीएमआरसी बोर्ड ने किराया समिति की मंजूरी को पास कर दिया था। इस फैसले के बाद दिल्ली मेट्रो में न्यूनतम किराया 8 रुपये की जगह 10 रुपये हो गया, जबकि अधिकतम किराया 50 रुपये तक पहुंच गया। मेट्रो किराए के नए स्लैब के तहत 10 रुपये, 15 रुपये, 20 रुपये, 30 रुपये, 40 और 50 रुपये किराए तय किए गए हैं। वहीं अक्टूबर 2017 से नई किराया स्कीम के तहत अधिकतम किराया 60 रुपये तक पहुंच गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here