दिल्लीः मेट्रो किराया बढ़ाए जाने को लेकर मेट्रो भवन के सामने लोगों का विरोध प्रदर्शन

0

दिल्ली मेट्रो में अब सफर करना महंगा हो गया है, क्योंकि दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (DMRC) ने किराया बढ़ा दिया है। राष्ट्रीय राजधानी में मेट्रो से यात्रा करना 10 मई से महंगा हो गया है, क्योंकि नए किराया ढांचे में न्यूनतम किराया 10 रूपए और अधिकतम 50 रूपए तय किया गया है। इस बीच किराया बढ़ाए जाने को लेकर लोगों में भारी नाराजगी देखने के मिल रही है।

फोटो: NBT

इस बीच शनिवार(13 मई) को भारी संख्या में रोजाना सफर करने वाले यात्रियों ने मेट्रो किराया बढ़ाए जाने को लेकर दिल्ली के मेट्रो भवन के सामने प्रदर्शन कर अपना विरोध दर्ज कराया। मेट्रो में हर रोज सफर करने वाले एक यात्रि ने ‘जनता का रिपोर्टर’ से बातचीत में बताया कि वह हर रोज कश्मीरी गेट से नोएडा सैक्टर 18 तक का सफर करते हैं।

उन्होंने बताया कि पहले जो किराया 17 से 18 रुपये लगते थे, वहीं अब 27 से 28 रुपये लग रहा है। यात्रि ने बताया कि मेट्रो का किराया बढ़ने की वजह से इस महीने से मेरे जेब पर करीब 600 रुपये का एस्ट्रा चार्ज लगेगा। जिसे लेकर मैं बहुत दुखी हूं। उन्होंने कहा कि DMRC को लोगों की समस्याओं पर विचार करना चाहिए।बता दें कि ये किराया दो चरणों में बढ़ाया जाएगा। पहले चरण का किराया 10 मई(लागू हो गया है) से और दूसरे चरण का किराया 1 अक्टूबर से लागू होगा। मेट्रो के एक प्रवक्ता ने बताया कि 10 मई से सितंबर तक अधिकतम किराया 50 होगा, जबकि 1 अक्टूबर से अधिकतम किराया 60 रुपए हो जाएगा।

किराए को 6 श्रेणियों में बांटा गया है, जिसमें सोमवार से शनिवार तक किराए की नई संरचना इस प्रकार होगी- दो किलोमीटर तक के लिए 10 रुपये, 2 से 5 किलोमीटर के लिए 15 रुपये, जबकि 5 से 12 किलोमीटर के लिए 20 रुपये, 12 से 21 किलोमीटर के लिए 30 रुपये, 21 से 32 किलोमीटर के लिए 40 रुपये और 32 किलोमीटर से अधिक के सफर के लिए 50 रुपये होगा।

स्मार्ट कार्ड का इस्तेमाल करने वाले यात्रियों को सबसे व्यस्त समय सुबह छह से 8 बजे, दोपहर 12 से शाम पांच बजे और रात 9 बजे के बाद 20 प्रतिशत की छूट प्राप्त होगी। जबकि, रविवार और राष्ट्रीय अवकाश (26 जनवरी, 15 अगस्त और दो अक्तूबर) को हर किराया श्रेणी में 10 रूपए की छूट प्राप्त होगी।

एक अक्टूबर से इसमें और बढ़ोतरी के साथ अधिकतम किराया 60 रूपए किया जाएगा। DMRC ने किराया निर्धारण समिति की सिफारिशों को मंजूरी देते हुए 8 मई को मेट्रो के किराए में वृद्धि की घोषणा की थी। DMRC का कहना है कि 7 साल बाद किराया बढ़ाया गया है जो कि बिजली की दर में वृद्धि, श्रमशक्ति भार एवं रखरखाव का खर्चा बढ़ने के मद्देनजर जरूरी है।

अगले स्लाइड में पढ़े, सोशल मीडिया पर लोगों ने कैसे निकाली भड़ास?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here