यूट्यूब पर सख्त हुआ हाईकोर्ट

0

हाईकोर्ट यूट्यूब पर सख्त है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने कहा है कि वीडियो साझा करने वाली वेबसाइट यूट्यूब इस बात के लिए बाध्य है कि वह इस समय लागू कानूनों का उल्लंघन करने वाली किसी विषय वस्तु को अपलोड नहीं करेगी।

पीटीआई भाषा की खबर के अनुसार, टाटा स्काई द्वारा दाखिल एक याचिका पर यह फैसला आया है। याचिका में कहा गया था कि यूट्यूब से ऐसे वीडियो को हटाया जाए जिसमें कंपनी के सेट टॉप बॉक्स का तोड़ बताया गया है।

Also Read:  गुणवत्ता में सुधार लाएं शैक्षिक संस्थान : राष्ट्रपति

न्यायाधीश एस मुरलीधर ने कहा, ‘‘सूचना प्रौद्योगिकी मध्यस्थता निर्देशों के नियम 3 .1 E के संबंध में यूट्यूब इस बात के लिए बाध्य है कि वह किसी समय विशेष में लागू किसी कानून का उल्लंघन करते हुए कोई सामग्री अपलोड नहीं करे।’’

Also Read:  मुस्लिम विरोधी ट्वीट करने के बाद वेबसाइट ने लेखक को कंपनी से किया बाहर

अदालत ने इससे पूर्व पिछले वर्ष 27 अगस्त को एक अंतरिम आदेश जारी कर यूट्यूब से उस सामग्री को हटाने को कहा था जिस पर टाटा स्काई ने आपत्ति जतायी थी।टाटा स्काई ने कहा था कि आईटीआईजी नियमों के तहत वेबसाइट उस स्थिति में तुरंत कार्रवाई करने के लिए बाध्य है जब यह स्पष्ट है कि विवादास्पद वीडियो गैर कानूनी है।

Also Read:  BJP की इस नेता ने फिल्म के दृश्य को बंगाल दंगें से जोड़कर सोशल मीडिया पर किया पोस्ट

यूट्यूब द्वारा विवादास्पद यूआरएल को हटाए जाने और साथ ही यह भी कहे जाने पर कि भविष्य में वह ऐसी कोई शिकायत मिलने पर तुरंत कार्रवाई करेगा, अदालत ने टाटा स्काई की याचिका का निपटारा कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here