ढोंगी बाबा वीरेंद्र देव पर कसता शिकंजा: स्वाति जयहिंद के नेतृत्व में दिल्ली के दो और आश्रमों पर छापेमारी, 21 लड़कियों को निकाला गया

0

दिल्ली महिला आयोग (DCW) की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद और हाईकोर्ट के वकील अजय वर्मा की टीम ने सोमवार (26 दिसंबर) को बाबा विरेंद्र देव दीक्षित के दो आश्रमों में छापेमारी की। इन आश्रमों की स्थिति भी बाबा के दूसरे आश्रमों जैसी ही थी। दोनों ही आश्रमों में तकरीबन 21 महिलाएं मिलीं। निरीक्षण के लिए गई टीम के अनुसार करावल नगर में छह और नांगलोई में करीब 15 लड़कियां मौजूद थीं।

PHOTO: @Amitjanhit

सोमवार सुबह स्वाति जयहिंद और अजय वर्मा की टीम सुबह करावल नगर स्थित आश्रम पर पहुंची। आयोग की टीम  यहां लड़कियों से बातचीत की लेकिन कोई भी पुख्ता जानकारी नहीं मिल सकी। इस आश्रम में भी विजय विहार, रोहिणी और बाबा के अन्य आश्रमों जैसी स्थिति में ही छह लड़कियों को रखा गया था। आश्रम बहुत छोटा था और दरवाजों पर ताले जड़े हुए थे। यहां लड़कियों को बंद करके रखा गया था।

वीरेंद्र देव दीक्षित के आश्रम में रजिस्टर भी सही तरीके से तैयार करके नहीं रखा गया था, जिससे यह पता चल सके कि लड़कियां कहां से यहां लाई गई हैं। ये कितने समय तक आश्रम में रहेंगी। आश्रम पहुंची टीम का अनुमान है कि 6 में से तीन लड़कियां नाबालिग हैं। इस बारे में सीडब्ल्यूसी को सूचित करके उनके शेल्टर होम और काउंसिलिंग के लिए अनुरोध किया गया है।

करावल नगर में स्थानीय लोगों ने टीम को बताया कि डीसीडब्ल्यू टीम के आने से कई लड़कियों को परिसर से हटा दिया गया था। इसके बाद आयोग की टीम नांगलोई आश्रम का दौरा किया। जहां लगभग 10 से 15 महिलाएं थीं, टीम को वहां कोई नाबालिग नहीं मिली, लेकिन स्थानीय लोगों ने बताया कि 20 लड़कियों को सुबह ही आश्रम से निकाल दिया गया था। आश्रम में कुछ रजिस्टरों और साहित्य को जब्त किया गया।

मानव तस्करी से जुड़ रहे तार

डीसीडब्ल्यू चीफ स्वाति जयहिंद ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि बाबा मानव तस्करी का एक रैकेट चला रहे हैं। सीबीआई को तत्काल पूरे भारत में बाबा वीरेंद्र दीक्षित के सभी आश्रमों पर छापा मारने और उन्हें बंद कर देना चाहिए। छापे में देरी करके, बाबा को बचने का समय मिल रहा है बाबा की शिक्षाएं तर्कहीन और बुरी हैं।

स्वाति ने कहा कि बाबा का कहना है कि उनकी महिला शिष्यों को उनके साथ प्यार का प्रतिशत बढ़ाने की कोशिश करनी चाहिए और इससे वो ‘लवली’ बनेंगी। बाबा यह भी कहता है की उसके साथ सोने से लड़कियों को बुरे सपने नहीं आएंगे। ये आश्रम बंद होने चाहिए।

CBI ने शुरू की जांच

बता दें कि दिल्ली हाई कोर्ट ने सीबीआई को आदेश दिया कि वह उत्तरी दिल्ली स्थित उस आश्रम के संस्थापक तथा प्रमुख का पता लगाए जहां महिलाओं और लड़कियों को कथित तौर पर ‘पिंजरों में जानवरों’ की तरह रखा गया। इस मामले में सीबीआई ने दस्तावेज एकत्रित करने शुरू कर दिए हैं।

सीबीआई का कहना है कि इस संबंध में अभी मामला दर्ज नहीं किया गया है लेकिन अधिकारी जल्द ही केस दर्ज कर सकते हैं। हाईकोर्ट ने सीबीआई को आदेश दिया हैं कि वह आरोपी बाबा को 4 जनवरी तक पेश करे। मामले में अगली सुनवाई चार जनवरी को होगी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here