राफेल मुद्दे पर देश को गुमराह कर रही है कांग्रेस, HAL से करार नहीं होने पर घड़ियाली आंसू बहा रही है: रक्षा मंत्री

0

राफेल विमान डील को लेकर घमासान जारी है। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण इस मसले पर आज यानी शुक्रवार (4 जनवरी) को संसद में जवाब दे रही हैं। रक्षा मंत्री ने राफेल मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के आरोपों को खारिज करते हुए शुक्रवार को कहा कि सरकार में रहते हुए कांग्रेस की मंशा विमान की खरीदने की नहीं थी, जबकि राष्ट्रीय सुरक्षा को जोखिम था।

लोकसभा में राफेल मामले पर चर्चा का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि, ‘‘मेरा आरोप है कि उनका विमान खरीदने का इरादा नहीं था। राष्ट्रीय सुरक्षा को जोखिम था, लेकिन वे विमान नहीं खरीदना चाहते थे।’’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस, एचएएल से करार नहीं होने पर घड़ियाली आंसू बहा रही है। रक्षा मंत्री ने कांग्रेस से सवाल किया कि अपनी सरकार में अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर का सौदा एचएएल को क्यों नहीं दिया?

उन्होंने कहा कि सरकारों के बीच समझौते पर 23 सितंबर, 2016 को हस्ताक्षर किया गया। पहला विमान इस तिथि से तीन साल के भीतर यानी 2019 में आ जाएगा और शेष विमान 2022 तक आ जाएंगे। रक्षा मंत्री ने कहा कि बातचीत की प्रक्रिया 14 महीने में पूरी कर ली गई। हमने 10 साल का समय नहीं लगाया। उन्होंने कांग्रेस पर देश को इस मुद्दे पर गुमराह करने का भी आरोप लगाया।

रक्षा मंत्री ने कहा, ‘‘आपने (कांग्रेस) सौदे को रोक दिया। यह भूल गए कि वायुसेना को इसकी जरूरत है। क्योंकि यह सौदा आपको रास नहीं आया। दरअसल इससे आपको पैसा नहीं मिला।’’ रक्षा मंत्री ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने राफेल मुद्दे पर पूरा अभियान झूठ के आधार पर चलाया और वह संसद के अंदर और बाहर देश को गुमराह कर रही है।

राहुल गांधी ने जेटली पर लगाया ‘गाली’ देने का आरोप

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर राफेल विमान सौदे पर संसद में चर्चा से भागने का आरोप लगाया। साथ ही आरोप लगाया कि चर्चा में उनकी जगह वित्त मंत्री अरुण जेटली इस मुद्दे बोलते हैं और राफेल से जुड़े सवालों का जवाब देने की बजाए उन्हें गाली देते हैं।

राहुल गांधी ने शुक्रवार को संसद भवन परिसर में पत्रकारों से कहा कि राफेल मुद्दे पर लोकसभा में चर्चा हो रही है लेकिन मोदी चर्चा में हिस्सा नहीं ले रहे हैं। प्रधानमंत्री की जगह वित्त मंत्री अरुण जेटली संसद में सामने आए और उन्होंने राफेल को लेकर कोई जवाब नहीं दिया। उन्होंने कहा, ‘‘अरुण जेटली ने लंबा भाषण दिया, मुझे गाली दी। लेकिन जो सवाल हैं उनको जवाब नहीं दिया।’’

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि जेटली का उन्हें गाली देने का कोई औचित्य नहीं है। उन्हें गाली नहीं देनी चाहिए थी बल्कि सवालों का जवाब देना चाहिए था। उन्होंने कहा कि सरकार को इस सौदे को लेकर बताना चाहिए कि 526 करोड़ रुपए के विमान का सौदा 1600 करोड़ रुपए में क्यों तय किया गया? सरकार यह भी बताए कि यह काम वायु सेना के कहने पर किया गया है या खुद मोदी ने यह निर्णय लिया है? सरकार यह भी बताए कि 126 विमानों की जगह महज 36 विमानों के लिए सौदा तय क्यों किया गया?

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here