“दीपक चौरसिया ने अपने एक इंटरव्यू से मोदी जी का जो हाल किया है वो करण थापर सौ इंटरव्यू से नहीं कर पाते”

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बालाकोट एयर स्ट्राइक के बारे में रडार वाले बयान के बाद अब डिजिटल कैमरा और ईमेल के इस्तेमाल को लेकर किए गए एक नए दावे के बाद विवाद शुरू हो गया है। न्यूज़ नेशन को दिए इंटरव्यू का ये दोनों वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। मोदी ने इंटरव्यू में बालाकोट एयर स्ट्राइक पर बात करते हुए एक ‘दिव्य ज्ञान’ दिया और दावा किया था कि उन्होंने तब सेना के बड़े अधिकारियों को सुझाया था कि बादलों की वजह से पाकिस्तान के रडार चकमा खा सकते हैं, जिससे हमारे लड़ाकू विमानों को मदद मिलेगी।

वहीं, दूसरे वायरल वीडियो में प्रधानमंत्री मोदी ने दावा करते हुए कहा कि उन्होंने वर्ष 1988 में डिजिटल कैमरे से एक तस्वीर खींचकर ईमेल की थी। अब इन दोनों बयानों के बाद प्रधानमंत्री मोदी सोशल मीडिया पर ट्रोलर्स के साथ-साथ राजनीतिक दलों के भी निशाने पर हैं। वहीं, पीएम मोदी के इस दावे से सोशल मीडिया यूजर्स हैरान और परेशान है। मोदी के इस दोनों बयान के बाद सोशल मीडिया में खूब मीम और चुटकुले साझा किए जा रहे हैं। सोशल मीडिया यूजर्स के अलावा विपक्षी पार्टियों ने भी इस बयान को लेकर मोदी पर हमला भी बोला है।

माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस दावे को लेकर उन पर निशाना साधा कि वह 1988 में डिजिटल कैमरा और ई-मेल इस्तेमाल करने वाले भारत के शुरुआती लोगों में शामिल थे। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘भ्रम फैलाने वाली बातों, झूठे दावों और सफेद झूठों की लंबी फेहरिस्त में यह सबसे ताजा है। यदि मामला प्रधानमंत्री पद से जुड़े होने के कारण इतना गंभीर नहीं होता तो इस पर काफी अच्छा चुटकुला बन सकता था।’’

सोशल मीडिया पर चर्चा में आए दीपक चौरसिया 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इंटरव्यू को लेकर वरिष्ठ टीवी पत्रकार दीपक चौरसिया एक बार फिर चर्चा में हैं। दीपक चौरसिया ने हाल में इंडिया न्यूज के इडिटर इन चीफ के पद से इस्तीफा देकर न्यूज नेशन ज्वाइन किया था। दीपक चौरसिया ने न्यूज नेशन पहुंचते ही बड़ा धमाका कर दिया। उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी का इंटरव्यू लिया जिसमें पीएम ने ऐसे ऐसे हैरान करने वाले दावे किए हैं कि सोशल मीडिया पर पिछले दो दिन से इसी की चर्चा चल रही है।

सोशल मीडिया यूजर्स दीपक चौरसिया की तारीफ कर रहे हैं और साथ ही अपने अपने अंदाज में मजा भी ले रहे हैं। हालांकि, दीपक के कुछ आचोलक उनपर पीएम मोदी से हल्के सवाल पूछने का आरोप लगाकर निशाना भी साध रहे हैं, तो कुछ इंटरव्यू को पहले से फिक्स बता रहे हैं। मशहूर कार्टूनिस्ट मंजुल ने दीपक के इस ताजा इंटरव्यू को पीएम मोदी के चर्चित करण थापर वाले इंटरव्यू से जोड़कर एक मजेदार ट्वीट किया है, जो काफी वायरल हो रहा है।

मंजुल ने ट्वीट कर लिखा है, “दीपक चौरसिया जी आज के दौर के सबसे बहादुर और बेमिसाल पत्रकार हैं। उन्होंने अपने एक इंटरव्यू से मोदी जी का जो हाल किया है वो करन थापर सौ इंटरव्यू से नहीं कर पाते।” वहीं, एक यूजर ने लिखा है, “दीपक चौरसिया विपक्ष का खास आदमी है, जो काम रविश कुमार 5 साल के नही कर पाए, वो चौरसिया जी 1 घंटे के इंटरव्यू में कर दिया।” इसके अलावा इस इंटरव्यू में किए गए मोदी के दावे पर सवाल खड़े करते हुए तंजभरी प्रतिक्रियाएं सामने आई हैं। सोशल मीडिया पर लोग जमकर मजे ले रहे हैं।

देखिए, लोगों की प्रतिक्रियाएं:

क्या कहा था पीएम मोदी ने?

शनिवार को न्यूज नेशन को दिए इंटरव्यू में मोदी ने दावा किया था कि उन्होंने पहली बार 1988 में डिजिटल कैमरा और ई-मेल का इस्तेमाल किया था। मोदी ने इंटरव्यू में कहा था, ‘‘मैंने पहली बार 1987-88 में डिजिटल कैमरे का इस्तेमाल किया और उस वक्त बहुत कम लोगों के पास ई-मेल होता था। लालकृष्ण आडवाणी की एक रैली थी और मैंने अपने कैमरे से उनकी तस्वीर ली। फिर मैंने तस्वीर दिल्ली भेज दी और वह अगले दिन रंगीन रूप में प्रकाशित हुई। इस पर आडवाणीजी को बड़ा आश्चर्य हुआ था।’’

वहीं, इसी इंटरव्यू में प्रधानमंत्री ने कहा था कि खराब मौसम के कारण रक्षा विशेषज्ञ बालाकोट हवाई हमले को टालना चाहते थे, लेकिन उन्होंने उनकी शंका खत्म करते हुए अपनी सलाह दी कि वह हमला कर दें। पुलवामा हमले के जवाब में भारतीय वायुसेना की ओर से पाकिस्तान के बालाकोट में किए गए हवाई हमले के बारे में मोदी ने कहा था, ‘‘हवाई हमले के दिन मौसम अच्छा नहीं था। विशेषज्ञों के मन में यह बात समा गई थी कि हमले का दिन बदला जाना चाहिए। लेकिन मैंने सुझाव दिया कि बादलों के कारण हमारे विमानों को रेडार की पकड़ में आने से बचने में मदद मिलेगी।’’

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here