BJP के दलित सांसद उदित राज का मोदी सरकार पर गंभीर आरोप, बोले- ‘दो अप्रैल के प्रदर्शन के बाद से दलितों को किया जा रहा प्रताड़ित’

0

कर्नाटक विधानसभा चुनाव और अगले साल 2019 में होने वाले आम चुनाव से ठीक पहले अपने दलित सांसदों के बगावती तेवरों को देखते हुए बीजेपी आलाकमान काफी परेशान है। दरअसल, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की नेतृत्व वाली केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर लगातार दलित विरोधी होने के आरोप लग रहे हैं। हैरान करने वाली बात है कि मोदी सरकार पर ऐसे आरोप उन्हीं के पार्टी के दलित सांसद लगा रहे हैं।

File Photo: Deccan Chronicle

सरकार पर ताजा हमला बोलते हुए बीजेपी के दलित सांसद उदित राज ने शनिवार (7 अप्रैल) को आरोप लगाया कि इस सप्ताह के शुरू में हुए ‘भारत बंद’ के दौरान हिंसक प्रदर्शन के बाद देश के विभिन्न हिस्सों में उनके दलित समुदाय के सदस्यों को ‘प्रताड़ित’ किया जा रहा है। उदित राज ने ‘जनता का रिपोर्टर’ से फोन पर बातचीत में अपनी नाराजगी व्यक्त की।

उन्होंने आरोप लगाया है कि 2 अप्रैल के बाद से पुलिस-प्रशासन द्वारा लगातार दलितों को प्रताड़ित किया जा रहा है। बीजेपी सांसद ने कहा कि पुलिस और स्थानीय गुंडे दलितों को मार रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम सरकार के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन सरकार की तरफ से पुलिस-प्रशासन को निर्देश दिया जाना चाहिए ताकी दलितों पर हो रहे अत्याचार बंद हो सके। बीजेपी सांसद ने कहा कि 15 लोगों को जोधपुर में गिरफ्तार कर लिया गया है।

‘जनता का रिपोर्टर’ से बातचीत के अलावा उन्होंने इससे संबंधित ट्वीट करते हुए भी अपनी नाराजगी व्यक्त की है।बीजेपी सांसद उदित राज ने लिखा, ‘2 अप्रैल को हुए प्रदर्शन में हिस्सा लेने वाले दलितों पर अत्याचार की खबरें मिल रही हैं। यह सब रुकना चाहिए।’

उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा, ‘दो अप्रैल के बाद दलितों का देशभर में प्रताड़ित किया जा रहा है, बाड़मेर, जालौर, जयपुर, ग्वालियर, मेरठ, बुलंदशहर, करौली समेत कई जगहों पर ऐसा हो रहा है। पुलिस भी उन लोगों को पीट रही है, फर्जी केस लगा रही है।’ उदित राज ने लिखा कि, ‘वह कार्यकर्ता मदद के लिए गिड़गिड़ा रहा है।’

उत्तर पश्चिम दिल्ली सीट से सांसद उदित राज ने कहा कि ग्वालियर में उनके द्वारा चलाए जा रहे दलित संगठन के एक कार्यकर्ता को प्रताड़ित किया गया। उदित राज ने कहा कि उनके दलित संगठन के एक कार्यकर्ता को ग्वालियर में प्रताड़ित किया गया, जबकि उसने कुछ नहीं किया था। उदित राज ने जिन जगहों का जिक्र किया है इन सभी जगहों पर बीजेपी की सरकार है।

गौरतलब है कि अनुसूचित जाति/जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम को कथित रूप से कमजोर किए जाने के खिलाफ दो अप्रैल को किये गए भारत बंद के दौरान हुए हिंसक प्रदर्शन में कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों अन्य घायल हो गए थे। दलितों के भारत बंद के बाद से उन्हें प्रताड़ित कर पीटे जाने और झूठे मामलों में फंसाने के भी मामले सामने आ रहे हैं।

यही वजह है कि लगातार बीजेपी के एक के बाद एक कई दलित सांसद पीएम मोदी को चिट्ठी लिख अपनी नाराजगी जाहिर कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश से दलित समुदाय के कुछ भाजपा सांसदों ने अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए प्रधानमंत्री को पत्र लिखे हैं। अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले बीजेपी सांसदों में सावित्री बाई फुले, छोटे लाल, डा. यशवंत सिंह, अशोक दोहरे शामिल हैं। सांसद छोटे लाल ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में योगी आदित्यनाथ की शिकायत की थी।

 

"
"

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here