दलितों पर अत्याचार के मामले में उत्तर प्रदेश का रिर्काड शीर्ष पर, देखिए आंकड़े

0

साल के शुरुआती महीनों मे दलित उत्पीड़न के सैकड़ों मामले सामने आए हैं। दलितों के साथ मध्य प्रदेश के दमोह में मारपीट का मामला हो या हरियाणा के फरीदाबाद में पंचायत चुनाव में वोट न देने पर दलितों की पिटाई का दबंगों ने कानून की धज्जियां उड़ाते हुए दलितों पर अत्याचार किया

Also Read:  Delhi woman raped by Ashram head in Vrindavan

लेकिन दलितों पर हुए हमलों का सही रिर्काड सामने आया है। साल 2015 में अनुसूचित जाति के समुदाय पर अत्याचार से जुड़े सबसे अधिक 8,358 मामले उत्तर प्रदेश में दर्ज किए गए, जबकि राजस्थान में 6,998 और बिहार में 6,438 मामले दर्ज किए गए। राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के आज जारी आंकड़ों में यह खुलासा हुआ है।

Also Read:  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने जताई नए उप राज्यपाल अनिल बैजल से सहयोग की उम्मीद

एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि राष्ट्रीय स्तर पर हालांकि 2014 की तुलना में 2015 में अनुसूचित जाति समुदाय के लोगों पर अत्याचार के मामलों में 4.4 प्रतिशत की कमी आई है। वर्ष 2015 में दलितों पर अत्याचार के 45,003 मामले दर्ज किए गए, जबकि 2014 में यह संख्या 47,064 थी।

Also Read:  Centre swings into action to rescue Bajrang Dal goon who beat, paraded Muslim man on street

एनसीआरबी के आंकड़ों से पता चलता है कि केन्द्र शासित प्रदेशों में इस वर्ग में राष्ट्रीय राजधानी में सबसे अधिक 54 मामले दर्ज किए गए, जबकि पुदुचेरी में पांच, दमन और दीव में दो.दो और चंडीगढ़ में एक मामला दर्ज किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here