मानव तस्करी मामले में मशहूर गायक दलेर मेहंदी दोषी करार, 2 साल की सजा, गिरफ्तारी के बाद मिली जमानत

0

पंजाब की पटियाला अदालत ने मशहूर गायक दलेर मेहंदी को मानव तस्करी मामले में दोषी करार देते हुए 2 साल की सजा सुनाया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दलेर मेहंदी के भाई शमशेर सिंह को भी अदालत ने दोषी ठहराया है। दलेर मेहंदी और शमशेर सिंह पर आरोप है कि वह कुछ लोगों को अपनी टीम का हिस्‍सा बताकर गैरकानूनी तरीके से विदेश ले गए। उन पर आरोप है कि इस काम को अंजाम देने के लिए उन्‍होंने काफी रकम भी वसूली थी। सजा के ऐलान के बाद ही पुलिस ने उन्हें फौरन हिरासत में ले लिया। हालांकि, कुछ ही देर बाद ही उन्हें पटियाला कोर्ट से जमानत भी मिल गई। यह मामला वर्ष 2003 का है। इस मामले में 15 साल बाद ये फैसला आया है। कोर्ट द्वारा शुक्रवार (16 मार्च) को दलेर को आपराधिक साजिश में दोषी करार दिया गया है। इस संबंध में दलेर के खिलाफ कुल 31 मामले पाए गए थे।

2003 में पटियाला पुलिस ने जानकारी के आधार पर दलेर के भाई शमशेर मेहंदी को गिरफ्तार किया था। लेकिन तब पूरी पुलिस टीम का ही तबादला कर दिया गया था। 2003 में पटियाला जिले के बलबेहरा गांव के निवासी बख्शीश सिंह की शिकायत पर मानव तस्करी का यह मामला दर्ज किया गया था। अपनी शिकायत में बख्शीश ने आरोप लगाया था कि दलेर और उसके भाइयों ने मुझे विदेश भिजवाने की एवज में 4.5 लाख रुपये लिए थे। स्थानीय पुलिस ने अप्रत्याशित तरीके से दलेर को मामले में क्लीन चिट दे दी थी।

2004 और 2005 में कोर्ट ने पुलिस द्वारा दलेर के समर्थन में दाखिल की गई दो याचिकाओं को खारिज कर दलेर के खिलाफ दोबारा चार्जशीट दाखिल करने का आदेश दिया था। दलेर और दूसरे आरोपियों के खिलाफ ऐसे 31 और मामलों की शिकायत भी दर्ज की गई थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक 1998 और 1999 के दौरान दलेर और उनके भाई ने 10 लोगों को अवैध रूप से अमेरिका पहुंचाया था।

मेहंदी और उनके भाई पर आरोप है कि वर्ष 1998 और 1999 के दौरान वह अपनी दो मंडलियां अमेरिका ले गए थे, जिसमें से मंडली के सदस्य बताकर ले जाए गए 10 लोगों को वहां गैर कानूनी तरीके से छोड़ दिया गया था। एक अभिनेत्री के साथ अमेरिकी यात्रा पर गए दलेर ने कथित तौर पर तीन लड़कियों को सैन फ्रांसिस्को छोड़ दिया था। अक्टूबर 1999 में भी दोनों भाईयों ने एक बार फिर कुछ अभिनेताओं के साथ अमेरिका गए थे और इस दौरान तीन लड़कों को न्यू जर्सी में छोड़ दिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here