दैनिक जागरण ने भाजपा के पक्ष में ‘एक्जिट पोल’ दिखाकर किया चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों का उल्लघंन

0

अभी यूपी में पहले चरण का मतदान हुआ ही है और दैनिक जागरण ने भाजपा के पक्ष में ‘एक्जिट पोल’ प्रकाशित भी कर दिया है। बता दें कि, इस ‘एक्जिट पोल’ को प्रकाशित करने के लिए चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन माना जा रहा है। निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देशों की खुले तौर दैनिक जागरण अखबार द्वारा उत्तर प्रदेश में भाजपा के पक्ष में एक एग्जिट प्रकाशित करना अवज्ञा माना जा रहा है।

इस प्रकाशित रिपोर्ट का निष्कर्ष निकलता है कि, भाजपा के पहले चरण में सर्वेसर्वा पार्टी बन जाएगी। मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी (बसपा) दूसरे स्थान पर होगी, जबकि समाजवादी पार्टी-कांग्रेस गठबंधन मतदाताओं से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलने की संभावना नहीं है।

इस रिपोर्ट में आगे कहा कि, पूर्व लोकसभा चुनावों में बीजेपी को पश्चिमी उत्तर प्रदेश से भारी जीत इसी क्षेत्र विशेष से मिली थी। इसके अलावा मोदी सरकार में तीन केन्द्रीय मंत्री भी इसी क्षेत्र से आते है। जिनमें महेश शर्मा, सेवानिवृत्त जनरल वीके सिंह और संजीव बालियान का नाम है।

चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों की अवमानना को जागरण द्वारा इस एग्जिट पोल के प्रकाशित करने का फैसला लोकतंत्र को मजबूती देने की दिशा में एक गम्भीर बाधा बन सकता है। जो आयोग द्वारा जागरण को दंडात्मक कार्रवाई के लिए बाध्य करता है।

अब देखना यह होगा कि चुनाव आयोग इस पर क्या कार्रवाई करेगा। प्रधानमंत्री बनने के बाद पीएम मोदी ने सबसे पहले जिस मीडिया समूह को बात करने के चुना था वो जागरण ही था।

11 फरवरी को पहले दौर के मतदान के बाद सभी पार्टिया अपनी-अपनी जीत के दावे कर रही है और पहले चरण के मतदान के बाद ही राज्य में अपनी सरकार बनने की बात कह रही है। ऐसे में जागरण द्वारा बीजेपी को सर्वेसर्वा दिखाना एकतरफा झुकाव को दिखाता है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here