दादरी कांड के आरोपी के शव को तिरंगे में लपेट, एक बार फिर बिसाहड़ा में सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश

0
>

गोमांस खाने के शक में मारे गए मौहम्मद अखलाक की मौत को तकरीबन एक साल गुज़र चुका है। लेकिन इस मामले पर सियासत अब भी कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। बहुचर्चित दादरी कांड जिससे पूरे देश में बवाल मच गया था।

दादरी के बिसाहड़ा गांव की घटना एक बार फिर जिंदा हो चुकी है और गांव का माहौल फिर गर्माया हुआ है, जिसकी आशंका थी वो सच होता दिख रहा है। लेकिन इस बार वजह अखलाक की मौत नहीं बल्कि हत्या के आरोपी रवि उर्फ रॉबिन की मौत पर है जिसकी न्यायिक हिरासत में मृत्यु हो चुकी है गांव में तनाव बढ़ गया है। इसके चलते गांव में फोर्स भेजी गई है।

Also Read:  मिस्र के तानाशाह राष्ट्रपति जनरल अल-सिसि बुधवार को भारत आएंगे

रॉबिन की मृत्यु के बाद लोगों ने उसके शव का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है। आश्चर्य की बात ये है कि आरोपी का शव गांव वालों ने तिरंगे में लपेट कर रखा हुआ है। और कुछ लोग भाषण में धार्मिक रंग देकर गांव का माहौल सांप्रदायिक रंग में करने की कोशिश कर रहें हैं, जिसका अंदाज़ा आप वीडियो देख कर लगा सकते हैं।

Also Read:  हरियाणा के सरकारी गौशाला में चारे की कमी से 25 गायों की मौत

भाषण देने वाले एक शख्स का कहना है कि “हम इसका बदला लेकर रहेंगे हिंदुओं ने चूड़ियां नहीं पहनी हैं, इन मुल्लों को जड़ से उखाड़ फैकेंगे।”
गौरतलब है कि ग्रेटर नोएडा पुलिस को अब तक गोकशी मामले में प्रामाणिक सबूत नहीं मिले हैं। 27 सितंबर को पुलिस ने कहा था कि उन्हें अभी तक मोहम्मद अखलाक के परिवार द्वारा गोकशी करने का कोई प्रामाणिक सबूत नहीं मिला है।

Also Read:  Kashmir Valley hails Bihar mandate

बिसाहड़ा निवासी रवि उर्फ रॉबिन को मोहम्मद अखलाक की हत्या व उनके परिवार पर हमले के आरोप में जारचा पुलिस ने अरेस्ट कर जेल भेजा था। मंगलवार को रवि की मौत हो गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here