अखिलेश यादव को चुनाव आयोग ने सौंपा साइकिल चुनाव चिन्ह, साथ ही मिली सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष की मुहर

0

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी पर वर्चस्व और उसके चुनाव चिन्ह पर कब्जे को लेकर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनके पिता मुलायम सिंह यादव खेमे के बीच चुनाव आयोग में चल रही दस्तावेजी जंग अखिलेश के पक्ष में गयी है और चुनाव आयोग ने उन्हें पार्टी का नाम तथा उसके चुनाव चिन्ह साइकिल पर अधिकार दे दिया है।

अखिलेश यादव

मुख्य निर्वाचन अधिकारी नसीम जैदी के दस्तखत से आज शाम जारी आदेश में आयोग ने कहा कि अखिलेश के नेतृत्व वाला खेमा ही समाजवादी पार्टी है और उसे ही पार्टी का नाम और चुनाव चिन्ह साइकिल पाने का हक है।

आदेश पर जैदी के अलावा दो अन्य चुनाव आयुक्तों के भी हस्ताक्षर हैं।

आयोग ने अपने आदेश में कहा कि आयोग ने दोनों पक्षों की दलीलों पर विचार के बाद यह पाया कि अखिलेश खेमा ही असली समाजवादी पार्टी है और वह ही पार्टी के नाम तथा चुनाव चिन्ह आदेश 1968 के मुताबिक साइकिल चुनाव चिह्न के इस्तेमाल के हकदार हैं।

भाषा की खबर की अनुसार, इसके साथ पार्टी के अध्यक्ष पद को लेकर अखिलेश और उनके पिता मुलायम सिंह यादव के बीच विगत 15 दिन से चल रहा विवाद समाप्त हो गया और आयोग ने अखिलेश को ही सपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष मान लिया है।

आयोग के फैसले से निहाल मुख्यमंत्री अखिलेश के साथ खडे़ रहे उनके चाचा रामगोपाल यादव ने कहा, चुनाव आयोग ने सही निर्णय लिया इसलिए कि दूसरे खेमे (मुलायम सिंह यादव खेमा) के पास चुनाव चिन्ह पाने के लिए जरूरी दस्तावेजी ताकत नहीं थी।

उन्होंने कहा कि आयोग के फैसले से मुख्यमंत्री अखिलेश बहुत खुश है। कांग्रेस के साथ गठबंधन की संभावना पर उन्होंने कहा कि इस संबंध में जो भी निर्णय होगा पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ही करेंगे। मगर मुझे गठबंधन की संभावना लगती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here