इंसानियत शर्मसार: पिछड़ी जाति के लोगों को नहीं दिया शव यात्रा के लिए रास्ता,तालाब के बीच में से निकाली शव यात्रा

0

मध्य प्रदेश के पनागर तहसील में इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई हैं। ऊंची जाति के दबंगों ने शव यात्रा निकालने के लिए रास्ता नहीं दिया।

जिसके बाद मृतक के परिजनों को तालाब के रास्ते शव यात्रा निकालनी पड़ी। दरअसल गांव से शमशान घाट जाने वाली कच्ची सड़क बरसात में डूब गई थी। जिसके बाद आने जाने के लिए खेत का रास्ता बचा था। लेकिन ऊंची जाति के लोगों  ने गांव वालों को शवयात्रा निकालने के लिए मना कर दिया।

Also Read:  3700 करोड़ रुपये का आॅनलाइन घोटाला करने वाला अनुभव मित्तल गिरफ्तार, नोएडा से चला रहा था फर्जी सोशल ट्रेडिंग कम्पनी
photo courtesy: ndtv india
photo courtesy: ndtv india

मजबूरन मृतक की शवयात्रा को लबालब भरे तालाब से होकर गुज़रना पड़ा तालाब के रास्ते शव को शमशान तक ले जाया गया। बताया जा रहा है कि जिस रास्ते से जाने के लिए पिछड़ी जाति के लोगों को रोका गया, वह सरकारी जमीन है।
गांव की एक 70 वर्षीय वृध्द महिला का देर रात निधन हो गया था जिसके चलते गांव वालों को शवयात्रा के लिए रास्ते की ज़रूरत थी लेकिन गांव के एक दबंग ने रास्ते में धान रोप दिया है।

Also Read:  VIDEO: हिन्दु युवा वाहिनी के सदस्यों ने बुलन्दशहर के अदौली गांव में फैलाया साम्प्रदायिक उन्माद, धार्मिक स्थल को किया क्षतिग्रस्त

एनडीटीवी की खबर के अनुसार गांव वालों का कहना है कि हमने प्रशासन से भी मदद की गुहार लगाई लेकिन कोई बात नहीं बनी हर बार बारिश में इस तरह की समस्या का सामना करना पड़ता है।

Also Read:  आंध्रप्रदेश : अस्पताल ने नहीं दिया स्ट्रेचर, पति को घसीटते हुए वार्ड तक ले जाने को मजबूर हुई महिला

इससे पहले खबर आई थी कि ओडिशा के पिछड़े जिले कालाहांडी में एक आदिवासी को अपनी पत्नी के शव को अपने कंधे पर लेकर करीब 10 किलोमीटर तक चलना पड़ा। उसे अस्पताल से शव को घर तक ले जाने के लिए कोई वाहन नहीं मिल सका था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here