नोटबंदी के खिलाफ RSS नेता ने संघ से नाता तोड़कर CPI(M) से मिलाया हाथ

0

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बड़े नेता पी पद्मकुमार ने संघ से अपने चार दशक पुराने सम्बधों को खत्म करते हुए CPI (M) से हाथ मिला लिया है। बताया जा रहा है कि वह केंद्र की बीजेपी सरकार के नोटबंदी फैसले से नाराज थे। इन दिनों पद्मकुमार संगठन के हिंदू एक्या वेदी में सचिव पद पर कार्य कर रहे थे।

Also Read:  कांग्रेस ने कहा, गडकरी बेटी की शादी में खर्च का ब्यौरा करें सार्वजनिक, शादी में खर्च हुआ धन कहां से आया ?

RSS

Congress advt 2

केरल में संघ और अल्पसंख्यक वर्ग पर हिंसा की खबरें बहुतायात देखने को मिलती है। मीडिया रिर्पोटस् के अनुसार अपने चार दशक पुराने रिश्तों को संघ परिवार से तोड़ने के मुख्य कारणों में पी पद्मकुमार ने माना कि राजनैतिक हिंसा और बीजेपी व संघ के नोटबंदी के अमानवीय स्टैंड को लेकर उन्होंने मार्क्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी से जुड़ने का मन बनाया। रविवार को पी पद्मकुमार ने CPI (M) से के साथ औपचारिक अपने सम्बधों का खुलासा कर दिया।

Also Read:  नोटबंदी के बाद 'अपमानित' महसूस कर रहे रिजर्व बैंक के कर्मचारियों ने उर्जित पटेल को लिखा पत्र

इस पर मार्क्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी के जिला सचिव ने संघ से बाहर आने के कारणों पर बात करते हुए मीडिया को बताया कि,” बीजेपी और संघ के इस अमानवीय स्टैंड के चलते कितने परिवार अनाथ हो गए। संघ के राजनितिक हिंसा को लेकर अमानवीय रवैए और 1000 और 500 रुपए के नोट बंदी को फैसले के विरोध स्वरूप संघ परिवार से बाहर आने का निर्णय लिया।

Also Read:  चंद्रबाबू नायडू का टूटा सब्र कहा, नोटबंदी से हो रही परेशानियों पर रोज सिर फोड़ता हूं, लेकिन नहीं मिल रहा समाधान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here