सरकार ने पशुओं की खरीद-बिक्री पर लगाया प्रतिबंध तो OLX पर बिकने लगी गायें

0

पशुओं की खरीद-बिक्री को लेकर केंद्र सरकार ने भले की इन पर रोक लगा दी हो, लेकिन उसके बाद भी व्यापारियों और किसानों ने पुशओं को बेचने और खरीदने का नया रास्ता निकाल ही लिया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मवेशियों की ब्रिकी अब ऑनलाइन साइट्स OLX पर होने लगी है। जिनकी किमत 50 हजार से लेकर दो लाख रुपए तक की कीमत में बेच रहे हैं। दरअसल, सरकार ने गाय की ऑनलाइन बिक्री की मंजूरी खेती, दूध व अन्य मकसद के लिए दी है। अभी तक ऑनलाइन वेबसाइट ओएलएक्स पर केवल पुराने सामानों की ही खरीद फरोख्त होती थी, लेकिन अब पशुओं की खरीद-बिक्री भी होने लगी है।

OLX पर 5 हजार से लेकर के 2 लाख रुपये तक की कीमत में बेच रहे हैं। साथ भी इसमें यह भी बताया जा रहा है कि आपके ऑडर करने के दो से तीन दिन के भीतर पहुंच जाएंगा।

दरअसल, 26 मई 2017 को केंद्र सरकार ने वध के लिये पशु बाजारों में मवेशियों की खरीद-फरोख्त पर प्रतिबंध लगा दिया था। पर्यावरण मंत्रालय ने पशु क्रूरता निरोधक अधिनियम के तहत सख्त ‘पशु क्रूरता निरोधक (पशुधन बाजार नियमन) नियम, 2017’ को अधिसूचित किया है। इसके तहत पशु बाजारों से मवेशियों की खरीद करने वालों को लिखित में यह वादा करना होगा कि इनका इस्तेमाल खेती के काम में किया जाएगा, न कि मारने के लिए।

इन मवेशियों में गाय, बैल, सांड, बधिया बैल, बछड़े, बछिया, भैंस और ऊंट शामिल हैं। वहीं मंगलवार (20 मई) को मद्रास हाईकोर्ट बैंच ने चार सप्ताह तक के लिए सरकार के आदेश को निलंबित कर दिया है।

इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक, पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रहने वाले रवि शर्मा ने 75 हजार रुपए में अपनी देशी गाय बेच दी थी। हालांकि गाय बेचने के बाद वो थोड़ा चिंतित नजर आए। क्योंकि वो जानना चाहते थे कि गाय खरीदने वाला शख्स उसके साथ क्या करेगा और वह किस समुदाय से संबंध रखता है। रवि ने बताया कि उन्हें किसी अल्पसंख्यक समूह को गाय बेचने में दिलचस्पी नहीं है।

हाल ही में राजस्थान के भीलवाड़ा में एक शक्स को गौ रक्षकों ने कथित तौर पर पीट-पीट कर हत्या कर दी था। इससे पहले भी यूपी के दादरी में अखलाख नाम के आदमी को मौत के घाट उतार दिया गया था। बता दें कि पिछले दो सालों में गौ हत्या के नाम पर लोगों को निशाना बनाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here