भाषा की मर्यादा लांघते हुए आजम खान ने जयाप्रदा पर की शर्मनाक टिप्पणी, महिला आयोग भेजेगा नोटिस, सुषमा स्वराज बोलीं- ‘रामपुर में हुआ द्रौपदी का चीरहरण’

0

उत्तर प्रदेश के रामपुर में समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रत्याशी आजम खान और बीजेपी प्रत्याशी जयाप्रदा के बीच जुबानी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है। रामपुर की शाहबाद तहसील में आयोजित एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए आजम खान ने भाषा की मर्यादा लांघते हुए बेहद शर्मनाक बयान दिया है। हैरान करने वाली बात यह थी कि इस दौरान मंच पर सपा प्रमुख अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी मौजूद थे, लेकिन किसी ने भी आजम को टोका नहीं। सभा में मौजूद भीड़ आजम के बेशर्म बयान पर तालियां बजाती रही। बता दें कि जयाप्रदा रामपुर से बीजेपी के टिकट पर आजम खान के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं।

जयाप्रदा का नाम लिए बगैर आजम खान ने जनसभा में मौजूद लोगों से पूछा, ‘क्या राजनीति इतनी गिर जाएगी कि 10 साल जिसने रामपुर वालों का खून पिया, जिसे उंगली पकड़कर हम रामपुर में लेकर आए, उसने हमारे ऊपर क्या-क्या इल्जाम नहीं लगाए। क्या आप उसे वोट देंगे?’ आजम ने आगे कहा कि आपने 10 साल जिनसे अपना प्रतिनिधित्व कराया, उसकी असलियत समझने में आपको 17 साल लगे, मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनके नीचे का अंडरविअर खाकी रंग का है।

जयाप्रदा के लिए मर्यादा लांघने के बाद आजम खान चौतरफा घिर गए हैं। आजम ने जयाप्रदा का नाम लिए बिना जो शर्मनाक बयान दिया उसको लेकर सोशल मीडिया सहित सभी राजनीतिक पार्टियों द्वारा निंदा हो रही है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने द्रौपदी के चीरहरण से तुलना करते हुए मुलायम सिंह यादव से कहा है कि वह भीष्म पितामह की तरह मौन साधने की गलती ना करें।

सुषमा स्वराज ने आजम के बयान वाला वीडियो शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा, ‘मुलायम भाई- आप पितामह हैं समाजवादी पार्टी के। आपके सामने रामपुर में द्रौपदी का चीरहरण हो रहा है। आप भीष्म की तरह मौन साधने की गलती मत करिए।’ सुषमा ने ट्वीट में अखिलेश यादव, जया भादुरी, और डिंपल यादव को भी टैग किया है।

महिला आयोग भेजेगा नोटिस

आजम के बयान को ‘बेहद अमर्यादित’ करार देते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि आयोग उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी करेगा। शर्मा ने चुनाव आयोग से भी गुजारिश की है कि वह आजम के चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित करे। शर्मा ने ट्वीट किया, ‘आजम खान हमेशा महिलाओं के प्रति अपमानजनक और अशिष्ट रहे हैं। NCW इसका स्वतः संज्ञान लेगा और उन्हें नोटिस भेजेगा। हम चुनाव आयोग से गुजारिश करेंगे कि आजम के चुनाव लड़ने पर रोक लगाई जाए।’

बाद में दी सफाई

विवाद बढ़ने के बाद आजम खान ने सोमवार को स्पष्ट किया कि उन्होंने फिल्म अभिनेत्री और बीजेपी उम्मीदवार जयाप्रदा के खिलाफ किसी तरह की आपत्तिजनक टिप्पणी नहीं की है। समाचार एजेंसी एएनआई से आजम खान ने कहा कि उन्होंने अपने बयान में किसी का नाम नहीं लिया है। मैं रामपुर से नौ बार विधायक और एक बार मंत्री रहा हूं। मुझे पता है क्या कहना है।

उन्होंने कहा कि अगर मैं दोषी साबित हो जाता हूं तो मैं लोकसभा चुनाव 2019 की उम्मीदवारी से अपना नाम वापस ले लूंगा और चुनाव नहीं लड़ूंगा। आजम खान ने एएनआई से आगे कहा कि ‘मैं दिल्ली के एक व्यक्ति का जिक्र कर रहा था जो अस्वस्थ है। जिसने कहा था- मैं 150 राइफलें लेकर आया था और अगर मैंने उस दिन आजम खान को देखा होता तो गोली मार देता।’ उसके बारे में बात करते हुए, मैंने कहा, ‘लोगों को जानने में काफी समय लगा और बाद में पता चला कि उसने आरएसएस के शॉर्ट्स पहने थे।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here