“मुझे शर्म आती है कि आप एक तेलुगु ब्राह्मण के रूप में पैदा हुए”: स्वामी अग्निवेश के निधन पर CBI के पूर्व अंतरिम डायरेक्टर नागेश्वर राव का ट्वीट, भारतीय पुलिस फाउंडेशन ने कहा- ‘राव ने पुलिस यूनिफार्म को नापाक किया है’

0

लंबे समय से लिवर सिरोसिस से पीड़ित चल रहे सामाजिक कार्यकर्ता और आर्य समाज की प्रतिष्ठित हस्ती स्वामी अग्निवेश (Swami Agnivesh) का दिल्ली के एक अस्पताल में शुक्रवार (11 सितंबर) शाम को निधन हो गया। वह 80 वर्ष के थे। लोग सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं। इस बीच, सीबीआई के पूर्व अंतरिम डायरेक्टर और आईपीएस अधिकारी एम. नागेश्वर राव (M Nageswara Rao) ने स्वामी अग्निवेश को लेकर एक ऐसा ट्वीट कर दिया जिसको लेकर वो सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आ गए। लोग नागेश्वर राव के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उनकी जमकर आलोचना कर रहे हैं।

स्वामी अग्निवेश

नई दिल्ली के इंस्टिट्यूट ऑफ लिवर एंड बायिलरी साइंसेज के डॉक्टरों ने कहा कि स्वामी अग्निवेश को आईसीयू में भर्ती कराया गया था और मंगलवार से वह जीवनरक्षक प्रणाली पर थे। अस्पताल के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘वह लिवर सिरोसिस से पीड़ित थे और उनकी हालत बिगड़ गई। उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया तथा शाम छह बजे हृदयाघात आने के बाद उनका निधन हो गया।’’ उन्होंने कहा कि स्वामी अग्निवेश को पुन: होश में लाने की कोशिश की गई लेकिन शाम साढ़े छह बजे उनका निधन हो गया।

स्वामी अग्निवेश के निधन पर IPS अधिकारी और सीबीआई के पूर्व अंतरिम डायरेक्टर नागेश्वर राव ने विवादित ट्वीट कर दिया जिसको लेकर वो सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आ गए, लोग उनकी जमकर आलोचना कर रहे हैं।

नागेश्वर राव ने ट्वीट किया, ‘बढ़िया है छुटकारा मिला। स्वामी अग्निवेश, आप भगवा पोशाक में हिंदू विरोध थे। आपने हिंदूवाद का बड़ा नुकसान किया। मुझे शर्म आती है कि आप तेलुगु ब्राह्मण के रूप में पैदा हुए थे।’ राव ने उन्हें हिरण की खाल में छिपा भेड़िया भी बताया। उन्होंने संस्कृत में लिखा, ‘गोमुख व्याग्रं।’ फिर आगे कहा, ‘हिरण की खाल में भेड़िया। मुझे यमराज से शिकायत है कि उन्होंने इतना लंबा इंतजार क्यों किया!’

नागेश्वर राव अपने इस ट्वीट को लेकर सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आ गए, लोग उनकी जमकर आलोचना कर रहे हैं। राव के इस ट्वीट पर भारतीय पुलिस फडनेशन ने भी आपत्ति जताई है। इंडियन पुलिस असोसिएशन ने राव के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, “खुद को एक आईपीएस ऑफिसर की तरह पेश करने वाले एक रिटायर्ड ऑफिसर की ओर से इस तरह के नफरती मेसेज ट्वीट किया गया। उन्होंने पुलिस की वर्दी पर दाग लगाया और सरकार को शर्मसार किया। उन्होंने देश के पूरे पुलिस फोर्स को शर्मिंदा किया, खासकर युवा अफसरों को।”

वहीं, राव के ट्वीट पर एक यूजर ने आपत्ति जताते हुए लिखा, “मामले को संज्ञान में लेकर उचित कार्यवाही करने का कष्ट करें नागेश्वर राव द्वारा की गई टिप्पणी से जनमानस काफी आहत है धार्मिक सौहार्द खराब करने के उद्देश्य से की गई टिप्पणी निंदनीय है।”

इसी यूजर ने एक अन्य ट्वीट में पीएम मोदी, अमित शाह सहित कई अन्य लोगों को टैग करते हुए लिखा, “महोदय निवेदन है कि एम नागेश्वर राव आईपीएस द्वारा की गई टिप्पणी से बहुत से लोगों की भावनाएं आहत हुई हैं कृपया संज्ञान में लेकर उचित कार्यवाही करें अन्यथा देश का सौहार्द खराब हो सकता है।”

बता दें कि, इसी तरह तमाम यूजर्स नागेश्वर राव के इस ट्वीट की आलोचना कर रहे हैं। नागेश्वर राव पर हिंदुत्व विचारधारा का होने का बार-बार आरोप लगता रहा है।

देखें कुछ ऐसे ही ट्वीट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here