नोटबंदी के मुद्दे को लेकर ‘व्यापक जन जागरूकता अभियान’ शुरू करेगी कांग्रेस, लोकसभा चुनाव तक चलेगा यह अभियान

0

नोटबंदी के आधिकारिक आंकड़े सामने आने के बाद सरकार पर लगातार हमले कर रही कांग्रेस की युवा इकाई अब इस मुद्दे पर ‘व्यापक जनजागरुकता अभियान’ शुरू करने जा रही है जिसका मकसद लोकसभा चुनाव से पहले युवाओं को नोटबंदी से हुए ‘नुकसान’ के बारे में अवगत कराना है। भारतीय युवा कांग्रेस इस अभियान के तहत जगह जगह सम्मेलन और संगोष्ठी करने के साथ ही ऑनलाइन मुहिम भी शुरू करेगी।

फाइल फोटो।

बता दें कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने वित्त वर्ष 2017-18 के एनुअल रिपोर्ट में कहा है कि 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी लागू होने के बाद 1000 और 500 रुपए के पुराने नोट तकरीबन वापस आ गए हैं। आरबीआई के अनुसार कुल 99 फीसदी नोट वापस आए हैं। अब तक कुल 15 लाख 31 हजार करोड़ रुपए के पुराने नोट वापस आ गए हैं। नोटबंदी से पहले कुल 15 लाख 41 हजार करोड़ रुपए की मुद्रा प्रचलन में थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 की रात को 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को प्रचलन से बाहर करने की घोषणा की थी। सरकार ने कहा था कि इसके पीछे मुख्य मकसद कालाधन और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाना है।

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, युवा कांग्रेस के उपाध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने कहा कि, ‘नोटबंदी बहुत बड़ा घोटाला है और आरबीआई के आंकड़े सामने आने के बाद यह बात साबित हो गई है। देश के युवाओं को यह पता होना चाहिए कि बीजेपी नीत सरकार के इस कदम से देश को 2.25 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।’

उन्होंने कहा, ‘युवा कांग्रेस इसको लेकर व्यापक जनजागरुकता अभियान शुरू करेगी। इसके तहत देश भर में सम्मेलन और संगोष्ठी का आयोजन होगा। इसके अलावा हम सोशल मीडिया के माध्यम से भी युवाओं को नोटबंदी के नुकसान के बारे में बताएंगे।’ श्रीनिवास ने कहा, ‘हमारा यह अभियान लोकसभा चुनाव तक चलेगा।’

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी नोटबंदी के मुद्दे पर लगातार हमले बोल रही है। गांधी ने हाल ही में आरोप लगाया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15-20 ‘क्रोनी कैपिटलिस्ट’ को फायदा पहुंचाने के लिए नोटबंदी की थी।

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here