गुजरात में विधायकों के इस्तीफे पर कांग्रेस का आरोप, BJP के डीएनए में है खरीद-फरोख्त का वायरस

0

कांग्रेस ने राज्यसभा चुनाव से पहले गुजरात में अपने कुछ विधायकों के इस्तीफा देने को लेकर शुक्रवार को भाजपा पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि खरीद-फरोख्त का वायरस सत्तारूढ़ दल के डीएनए में है। बता दें कि, राज्य से चार राज्यसभा सीटों के लिए 19 जून को चुनाव होने हैं।

गुजरात

पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने यह कटाक्ष भी किया कि देश आत्मनिर्भर नहीं बना, लेकिन भाजपा आत्मनिर्भर बन चुकी है। उन्होंने सत्तारूढ़ पार्टी पर गुजरात में विधायकों की ‘खरीद-फरोख्त’ का आरोप लगाते हुए संवाददाताओं से कहा, ‘‘ यह (खरीद-फरोख्त) एक वायरस है, जो भाजपा के डीएनए में है। वह इस वायरस को फैला रही है।’’ सिब्बल ने कहा, ‘‘जनता पहचान रही है कि हमें तो सड़कों पर चला रहे हैं और खुद विधायकों की खरीद-फरोख्त कर रहे हैं।’’

गौरतलब है कि, राज्यसभा चुनाव से पहले गुजरात में कांग्रेस विधायक बृजेश मेरजा ने शुक्रवार को विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। एक सप्ताह में कांग्रेस के तीसरे विधायक ने इस्तीफा दिया है। इससे पहले पार्टी के दो विधायकों अक्षय पटेल और जीतू चौधरी ने बुधवार शाम को इस्तीफा दे दिया था। इससे पहले मार्च में भी कांग्रेस के पांच विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था।

बता दें कि, गुजरात में 19 जून को राज्यसभा की चार सीटों के लिए चुनाव होना है। इसे पहले यह चुनाव 26 मार्च को आयोजित किया जाना था। लेकिन, कोरोनो वायरस महामारी के कारण अनिश्चित काल के लिए इसे स्थगित कर दिया गया और बाद में देशव्यापी लॉकडाउन लागू कर दी गई।

भाजपा ने तीन सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं, जबकि कांग्रेस की तरफ से दो उम्मीदवार मैदान में है। विधायकों के संख्याबल के आधार पर भाजपा के दो और कांग्रेस का एक सांसद चुना जाना तय है, जबकि एक सीट पर दोनों के बीच कांटे की टक्कर देखी जा सकती है। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here