राफेल डील: कांग्रेस का अब मोदी सरकार पर ऑडियो बम, पढ़ें- जारी किए गए ऑडियो में क्या है?

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राफेल डील को लेकर दिए गए बयान के बाद कांग्रेस ने एक ऑडियो के जरिए पलटवार किया है। कांग्रेस ने बुधवार (2 जनवरी) को एक ऑडियो फाइल जारी की जिसमें ऐसा लग रहा है कि गोवा के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत प्रताप सिंह राणे कथित तौर पर कह रहे हैं कि गोवा के मुख्यमंत्री व पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के पास राफेल सौदे की सभी फाइलें हैं। कांग्रेस ने इन फाइलों को सार्वजनिक करने की मांग की है। ऑडियो को लेकर कांग्रेस की तरफ से दावा किया गया है कि मंत्री राणे किसी एक शख्स से बातचीत कर रहे हैं।

कांग्रेस ने दावा किया कि बीजेपी मंत्री ने उस अज्ञात शख्स को बताया कि मनोहर पर्रिकर ने कैबिनेट की बैठक में कहा कि राफेल डील के कागजात उनके बेडरूम में हैं, उनका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने अपने इस दावे के सबूत के तौर पर गोवा के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे की बातचीत की एक ऑडियो क्लिप भी सुनाई। कांग्रेस के हमले के एक दिन पहले ही मोदी ने एक साक्षात्कार में कांग्रेस पर आरोप लगाया कि राफेल जेट सौदे पर सवाल उठाकर वह सुरक्षा बलों को कमजोर कर रही है। भाजपा का कहना है कि इस सौदे में कोई भ्रष्टाचार नहीं हुआ है।

सुरजेवाला ने इस ऑडियो फाइल को जारी किया जिसमें गोवा के स्वास्थ्य मंत्री राणे और एक अन्य व्यक्ति के बीच टेलीफोन पर बात होती सुनाई दे रही है। हालांकि, इस व्यक्ति की पहचान नहीं बताई गई है। सुरजेवाला ने कहा, “गोवा के मंत्री राणे ने सनसनीखेज खुलासे किए हैं कि सभी राफेल फाइलें पर्रिकर के पास हैं। राफेल सौदे के सारे राज राणे ने खोल दिए हैं। अगर मोदी के पास छुपाने के लिए कुछ नहीं है तो वे फाइलें पर्रिकर के बेडरूम में क्यूं हैं जिनका इस्तेमाल वह (पर्रिकर) यह सुनश्चित करने के लिए कर रहे हैं कि कोई उनके साथ कुछ कर नहीं सके।”

‘पर्रिकर के बेडरूम में है राफेल की सारी जानकारी’

सुरजेवाला ने जो ऑडियो फाइल सुनाई उसमें एक व्यक्ति जिसे कांग्रेस राणे बता रही है, वह कह रहा है कि ‘मुख्यमंत्री ने एक दिलचस्प बयान दिया है कि उनके बेडरूम में राफेल की सारी जानकारी है।’ इसमें कथित तौर राणे को यह कहते सुना जा रहा है, “उन्होंने कहा कि ये मेरे बेडरूम में है। यहीं फ्लैट में। राफेल का एक-एक दस्तावेज मेरे पास है…इसका मतलब है कि वह उन्हें बंधक (रैन्सम) बनाए हुए हैं।” सुरजेवाला ने दावा किया कि यह पिछले सप्ताह गोवा की कैबिनेट मीटिंग के बाद की रिकॉर्डिग है।

कांग्रेस के इस आरोप को दोहराते हुए कि ‘राफेल सौदा भारत का सबसे बड़ा रक्षा घोटाला है’, सुरजेवाला ने यह जानने की मांग की कि फाइलें पर्रिकर के पास क्यूं हैं और उन्होंने सवाल किया कि क्या मोदी गोवा के मुख्यमंत्री से ‘डरते’ हैं।उन्होंने कहा, “मोदी कहते हैं कि राफेल सौदे में उनके खिलाफ कोई व्यक्तिगत आरोप नहीं हैं, लेकिन यह ऑडियो उन्हें दोषी बताने का एक सबूत है जिस पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद पहले ही फ्रांसीसी मीडिया से यह कहकर मुहर लगा चुके हैं कि प्रधानमंत्री मोदी की ओर से एक निजी कंपनी के लिए सौदे किया गया था।”

सुरजेवाला ने सवालिया लहजे में कहा, “प्रधानमंत्री जेपीसी से क्यूं डरते हैं? क्या इसलिए कि वह जानते हैं कि इससे सौदे के पीछे का सारा भ्रष्टाचार सामने आएगा?” उन्होंने कहा, “पर्रिकर के पास मौजूद फाइलें सार्वजनिक की जानी चाहिए और मोदी को जेपीसी जांच के लिए तैयार होना चाहिए। 10 दिनों के भीतर जेपीसी जांच से राफेल सौदे की सारी सच्चाई सामने आ जाएगी जो देश का सबसे बड़ा रक्षा घोटाला है।”

पढ़िए, ऑडियो में क्या है…

जारी किए गए ऑडियो में क्या है…

अन्य व्यक्ति: गुड ईवनिंग सर

विश्वजीत राणे: बॉस, गुड ईवनिंग। आज एक तीन घंटे की कैबिनेट बैठक हुई थी।

अन्य व्यक्ति: ओके।

विश्वजीत: इसको सीक्रेट ही रखिएगा।

अन्य व्यक्ति: हां, हां…

विश्वजीत: आज बहुत लड़ाई हुई, आप जानते हैं…बहुत लड़ाई। नीलेश ने अपने क्षेत्र से अधिकतर इंजीनियर अपने इलाके से लिए हैं, जयेश साल्गोनकर को लिस्ट मिल गई। हर कोई उससे लड़ रहा है। हर कोई नाराज है क्योंकि अभी तक नियुक्ति नहीं हो पाई है।

अन्य व्यक्ति: ओके।

विश्वजीत: बापू सुदीन धवलालिकर से लड़ रहे थे, क्योंकि काम नहीं हो रहा था।

अन्य व्यक्ति: ओके।

विश्वजीत: आज की बैठक में मुख्यमंत्री ने एक दिलचस्प बयान दिया। उन्होंने कहा कि राफेल से जुड़ी सारी जानकारी मेरे बेडरूम में हैं।

अन्य व्यक्ति: आप ये क्या कह रहे हैं?

विश्वजीत: हां, मैं आपको बता रहा हूं।

अन्य व्यक्ति: हे भगवान!

आगे भी ऑडियो के कुछ हिस्से को जारी किया गया है। इस ऑडियो की पुष्टि ‘जनता का रिपोर्टर’ नहीं करता है, ये कांग्रेस की ओर से जारी किया गया है।

मनोहर पर्रिकर और मंत्री ने दी सफाई

हालांकि, कुछ देर बाद ही गोवा के मंत्री विश्वजीत राणे ने दावा किया कि ऑडियो टेप के साथ छेड़छाड़ की गई है। कांग्रेस के ऑडियो जारी करने के बाद गोवा के मंत्री राणे ने सफाई दी कि टेप में उनकी आवाज नहीं है। प्रेस कॉन्फ्रेंस करके राणे ने कहा, ‘कांग्रेस के आरोप पूरी तरह से झूठे हैं। टेप में मेरी आवाज नहीं है। ऑडियो की जांच की जानी चाहिए।’ राणे ने साफ कहा कि पर्रिकर ने कभी भी राफेल या किसी दस्तावेज का जिक्र नहीं किया। उन्होंने आपराधिक जांच कराने की भी बात कही है। वहीं, गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने भी ट्वीट कर सफाई दी। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि कांग्रेस द्वारा जारी किया गया ऑडियो उनके झूठ का पर्दाफाश करता है। कैबिनेट बैठक में इस मसले को लेकर कोई बात नहीं हुई थी।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here