कोरोना वैक्सीन की मंजूरी पर कांग्रेस नेताओं ने उठाए सवाल, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से मांगा स्पष्टीकरण

0

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने रविवार को दो कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। डीसीजीआई ने सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड और भारत बायोटेक की वैक्सीन कोवैक्सीन को आपातकालीन स्थिति में इस्तेमाल को मंजूरी दी है। कोरोना वैक्सीन की मंजूरी मिलने पर कांग्रेस नेताओं ने सवाल उठाए हैं। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से जवाब मांगा है।

कोरोना वैक्सीन

कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने ट्वीट किया, ”कोवैक्सीन का अभी तक तीसरे चरण का परीक्षण नहीं हुआ है। स्वीकृति समय से पहले मिली है और यह खतरनाक हो सकती है। डॉ. हर्षवर्धन को स्पष्ट करना चाहिए। पूर्ण परीक्षण समाप्त होने तक इसके उपयोग से बचा जाना चाहिए था। इस दौरान भारत एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के साथ अभियान शुरू कर सकता है।”

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने भी इसी तरह का सवाल उठाते हुए कहा कि भारत बायोटेक प्रथम श्रेणी का उद्यम है, लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि तीसरे चरण के परीक्षणों से संबंधित अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वीकृत प्रोटोकॉल कोवैक्सीन के लिए संशोधित किए जा रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को इसे बारे में स्पष्टीकरण देना चाहिए।

वैक्सीन के सुरक्षित होने के सवाल पर डीसीजीआई के निदेशक ने कहा कि दोनों ही वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित हैं और इसका इस्तेमाल इमरजेंसी की स्थिति में किया जा सकेगा। डीसीजीआई के अनुसार, दोनों ही वैक्सीन की दो-दो डोज इंजेक्शन के रूप में दी जाएगी। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने कहा कि वैक्सीन 110 प्रतिशत सु​रक्षित हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी वैक्सीन के थोड़े साइड इफेक्ट होते हैं जैसे दर्द, बुखार, एलर्जी होना। वैक्सीन से लोग नपुंसक हो सकते हैं, यह दावा पूरी तरह से बकवास है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here