VIDEO: पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम की गिरफ्तारी पर भड़की कांग्रेस, प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बोले रणदीप सुरजेवाला- ये बदले की कार्रवाई

0

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर वरिष्ठ पार्टी नेता और पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी को लेकर मोदी सरकार पर तीखा प्रहार करते हुए आरोप लगाया कि ये कार्रवाई बदले की भावना से प्रेरित है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार सीबीआई, आईडी का इस्तेमाल ‘व्यक्तिगत बदला लेने वाले विभागों’ के तौर पर कर रही है। उन्होंने कहा, जिस तरह से चिदंबरम के खिलाफ कार्रवाई की गई है, उससे साफ जाहिर होता है कि मोदी सरकार उनके खिलाफ राजनीतिक द्वेष से काम कर रही है।

पी चिदंबरम

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और ईडी की निगाह से बचते रहे वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम बुधवार को नाटकीय अंदाज में कांग्रेस मुख्यालय में प्रकट हुए और प्रेस कांफ्रेस में खुद को निर्दोष बताया। यहां से वह अपने जोर बाग स्थित आवास पहुंचे, जहां उन्हें सीबीआई ने हिरासत में ले लिया। सीबीआई उन्हें उनके घर से हिरासत में लेकर CBI हेडक्वॉर्टर ले गई जहां चिदंबरम को अधिकारिक तौर पर गिरफ्तार किया गया। आज उन्हें राउज ऐवेन्यू स्थित सीबीआई कोर्ट में पेश किया जाएगा।

कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा, ‘‘भारत ने पिछले दो दिन में लोकतंत्र और कानून व्यवस्था की दिन दिहाड़े हत्या होते देखी।’’ उन्होंने कहा कि आईएनएक्स मीडिया मामले में कई आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया गया, लेकिन एक वरिष्ठ नेता को किसी कानूनी आधार के बिना गिरफ्तार कर लिया गया। सुरजेवाला ने कहा, ‘‘सरकार सीबीआई, ईडी का इस्तेमाल सत्तारूढ़ पार्टी और देश में शासन करने वालों के लिए व्यक्तिगत बदला लेने वाले विभागों के तौर पर कर रही है।’’

उन्होंने इंद्राणी मुखर्जी का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘एक अनुभवी नेता को उस महिला के बयान पर गिरफ्तार किया गया जिस पर अपनी ही बेटी की हत्या का आरोप है।’’ सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि देश में हरेक को ‘चुप कराने’ के लिए वरिष्ठ राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों पर ‘झूठे आरोप’ लगाए जा रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा, “कार्ति चिदंबरम पर उसी मामले में 4 बार छापा मारा गया, गिरफ्तार किया गया और जमानत पर रिहा किया गया। वह 20 से अधिक सम्मन के जवाब में उपस्थित हुए। फिर भी जांच अधिकारियों के पास चिदंबरम के खिलाफ अदालत में आरोप पत्र पेश करने के लिए कोई सबूत नहीं है।”

उन्होंने आगे कहा, “चिदंबरम भारत के सम्मानित अर्थशास्त्रियों और राजनेताओं में से एक हैं। उन्होंने हर बार जांच अधिकारियों को सहयोग किया है। सुप्रीम कोर्ट के एक वरिष्ठ वकील के रूप में उनके पास संविधान के लिए सर्वोच्च सम्मान है। उन्होंने किसी कार्रवाई को नहीं टाला और न ही ऐसा इरादा था।” (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here