कांग्रेस नेता ने AAP उम्मीदवार आतिशी को बताया यहूदी, भड़के मनीष सिसोदिया ने किया जाति का खुलासा

0

राजधानी में सत्तारुढ़ आम आदमी पार्टी (AAP) की नेता और पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से उम्मीदवार आतिशी की धर्म को लेकर एक नया विवाद शुरू हो गया है। दिल्ली से कांग्रेस के पूर्व विधायक आसिफ मोहम्मद खान ने कथित तौर पर दावा किया है कि आतिशी यहूदी हैं और उन्हें वोट न करें। आसिफ ने पूर्वी दिल्ली संसदीय क्षेत्र में मुस्लिमों से अतिशी को वोट न करने का आग्रह कर एक बड़ा विवाद छेड़ दिया है।

आप नेता नागेंद्र शर्मा ने आसिफ के बयान वाला वीडियो ट्वीट किया है, जिसमें वह कह रहे हैं, ”हमारा मजहब कहता है- हिंदू, मुस्लिम, सिख, इसाई आपस में हैं सब भाई-भाई, लेकिन यहूदी की हिंदुस्तान में कोई जगह नहीं है। ये बात आपको घर-घर पहुंचानी है। आपने आम आदमी पार्टी को वोट दे दिया, झाड़ू को वोट दे दिया, चलिए दे दिया हमें कोई शिकायत नहीं है… लेकिन अगर आपने यहूदी को वोट दिया तो आपसे हमारी शिकायत है।”

आतिशी के धर्म को लेकर मची सियासत के बीच दिल्ली के उप मुख्यमंत्री और आप के वरिष्ठ नेता मनीष सिसोदिया ने विपक्षी दलों पर करारा हमला बोला है। सिसोदिया ने ट्वीट कर लिखा, “मुझे दुःख है कि बीजेपी और कांग्रेस मिलकर हमारी पूर्वी दिल्ली की प्रत्याशी आतिशी (Atishi) के धर्म को लेकर झूठ फैला रहे हैं। सिसोदिया ने ट्वीट किया, ‘बीजेपी और कांग्रेस वालों जान लो- ‘आतिशी सिंह’ है उसका पूरा नाम। राजपूतानी है। पक्की क्षत्राणी…झांसी की रानी है। बच के रहना। जीतेगी भी और इतिहास भी बनाएगी।”

वहीं, कांग्रेस नेता के दावों पर आतिशी ने एबीपी न्यूज से बात करते हुए कहा, ”ये कांग्रेस की बौखलाहट को दिखाता है। कांग्रेस नेता झूठ पर उतर आए हैं। मैं पंजाबी हिंदू परिवार से आती हूं। मेरे पिता का नाम विजय सिंह है। मेरा जन्म चंडीगढ़ में हुआ है। बयानबाजी बतलाती है कि कांग्रेस न सिर्फ हार रही है, बल्कि उनकी जमानत भी जब्त होने वाली है।”

आपको बता दें कि आतिशी पूर्वी दिल्ली से आम आदमी पार्टी के टिकट पर चुनावी मैदान में उतरी हैं। उनके खिलाफ बीजेपी ने पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर को मैदान में उतारा है। जबकि कांग्रेस ने दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री अरविंदर सिंह लवली को अपना उम्मीदवार बनाया है। दो दिन पहले ही आप ने दावा किया कि पूर्वी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी उम्मीदवार गौतम गंभीर का नाम मतदाता सूची में दो बार दर्ज है। आप ने उनके खिलाफ इस मामले में अदालत में आपराधिक शिकायत दर्ज की है।

देखें, लोगों की प्रतिक्रियाएं:

बता दें कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) के बीच गठबंधन के सभी प्रयास विफल होने के बाद राष्ट्रीय राजधानी में लोकसभा चुनाव और दिलचस्प बन गया है। दिल्ली में अब त्रिकोणिय मुकाबला कांग्रेस, बीजेपी और आम आदमी पार्टी के बीच होना तय दिख रहा है। दिल्ली में सात लोकसभा सीट हैं और सभी सीटों पर 12 मई को वोट डाले जाएंगे, जबकि मतगणना 23 मई को होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here