FIR मामले में कांग्रेस का सवाल- “आज तक अर्नब गोस्वामी बिना अग्रिम जमानत लिए क्यों बाहर घूम रहे हैं?”

0

महाराष्ट्र पुलिस ने अंग्रेजी समाचार चैनल ‘रिपब्लिक टीवी’ के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी समेत तीन लोगों के खिलाफ आत्महत्या मामले में एफआईआर दर्ज की है। तीनों पर एक इंटीरियर डिजाइनर को खुदकुशी के लिए उकसाने का आरोप है। बीते शनिवार (5 मई) को इंटीरियर डिजाइनर ने अपने आवास पर आत्महत्या कर ली थी। इंटीरियर डेकोरेटर की पहचान अन्वय नाईक (53) के तौर पर हुई है। इंटीरियर डिजाइनर की पत्नी ने अर्नब गोस्वामी के चैनल रिपब्लिक टीवी पर बकाया राशि नहीं देने का आरोप लगाया है। हालांकि चैनल ने आरोपों को खारिज किया है।

इस बीच कांग्रेस ने अर्नब गोस्वामी और रिपब्लिक टीवी के सह-संस्थापक राजीव चंद्रशेखर पर हमला बोला है। कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राज्यसभा सांसद व रिपब्लिक टीवी के सह-संस्थापक राजीव चंद्रशेखर पर अधिकारों के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए बुधवार (9 मई) को कहा कि वह अपने वैधानिक प्रभाव का इस्तेमाल निजी कारोबार में कर रहे हैं और चुनिंदा मीडिया कंपनियों (रिपब्लिक टीवी) के साथ मिलकर समाज में घृणा और वैमनष्य फैला रहे हैं।

कांग्रेस के प्रवक्ता पवन खेड़ा ने पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बीजेपी के राज्यसभा सांसद एक प्रभावशाली कारोबारी हैं आैर लगभग एक अरब डालर की जूपिटर कैपिटल के संस्थापक हैं। यह कंपनी अन्य कंपनियों को धन उपलब्ध कराती हैं और उन्हें नियंत्रण करती है। खेड़ा ने आरोप लगाया कि चंद्रशेखर अपनी कंपनी जूपिटर कैपिटल के माध्यम से मीडिया तथा रक्षा उत्पादन संबंधी कारोबार में दखल रखते हैं और एक सांसद के अधिकारों का इस्तेमाल अपने निजी कारोबार में करते हैं।

उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर संसद की स्थायी रक्षा समिति के सदस्य हैं। इस तरह बहुत ही संवेदनशील जानकारियों तथा सूचनाओं तक उनकी पहुंच होती है। वह रक्षा योजना, नियोजन तथा व्यय आदि में अपनी राय भी रखते हैं। दूसरी आेर चंद्रशेखर का कारोबार एक अन्य कंपनी के माध्यम से एयरोस्पेस, रक्षा, भारी उद्योग इंजीनियरिंग और आटोमोबाइल क्षेत्र में फैला है। यह कंपनी जूपिटर कैपिटल की सहयोगी कंपनी है।

अर्नब गोस्वामी बिना अग्रिम जमानत लिए क्यों बाहर घूम रहे हैं?

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने इस दौरान अर्नब गोस्वामी और उनके अंग्रेजी चैनल रिपब्लिक टीवी पर भी जमकर निशाना साधा। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि अर्नब गोस्वामी पर अभी भारतीय दंड संहिता की धारा 306 के तहत FIR दर्ज हुई है। उन्होंने कहा कि अनवे नायक नाम के इंटीरियर डिजाइनर ने अपने बंगले में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। मृतक की पत्नी अक्षता अनवे नायक द्वारा यह FIR दर्ज करवाई गई है। ये एफआईआर अलीबाग पुलिस स्टेशन में दर्ज हुई।

पवन खेड़ा ने कहा कि अनवे नायक ने आत्महत्या के पहले एक सुसाइड नोट छोड़ा है और इस सुसाइड नोट में उन्होंने अर्नब गोस्वामी सहित अन्य लोगों का जिक्र किया है। उन्होंने कहा कि इंटीरियर डिजाइनर ने अपने सुसाइड नोट में रिपब्लिक टीवी पर काम के बदले बकाया राशि नहीं देने का आरोप लगाया है। कांग्रेस प्रवक्त ने पूछा कि देश जानना चाहता है कि आज तक महाराष्ट्र पुलिस इस मामले में क्या कार्रवाई की हम यह जानना चाहते हैं।

उन्होंने पूछा, क्या अनवे नायक एक हिंदुस्तानी नागरिक नहीं था? क्या उसकी जान की कीमत अर्नब गोस्वामी के पद और राजीव चंद्रशेखर का रसूख से कम है? आज तक अर्नब गोस्वामी बिना अग्रिम जमानत लिए क्यों बाहर घूम रहे हैं? क्यों उनको इतना समय दिया जा रहा है? क्या पुलिस ने कार्रवाई की है? देश जानना चाहता है। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि आप (अर्नब) सरकार को छोड़कर पूरे देश को कठघरे में खड़ा करते हैं। सरकार से बचाकर सबसे प्रश्न पूछते हैं।

उन्होंने कहा कि आज प्रश्न आप से पूछा जा रहा है। आज सवाल महाराष्ट्र पुलिस से पूछा जा रहा है। आज इस रिश्ते को एक्सपोज होते हुए हम सब देख रहे हैं। जो रिश्ता इस सरकार, पार्टी, अर्नब गोस्वामी और राजीव चंद्रशेखर का है। हम नहीं पूछ रहे हैं कि यह रिश्ता क्या कहलाता है। हमें मालूम है कि यह रिश्ता क्या कहलाता है। एक्शन क्यों नहीं लिया जा रहा है।

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, अंग्रेजी समाचार चैनल ‘रिपब्लिक टीवी’ के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी समेत तीन लोगों के खिलाफ आत्महत्या मामले में एफआईआर दर्ज की है। तीनों पर एक इंटीरियर डिजाइनर को खुदकुशी के लिए उकसाने का आरोप है। बीते शनिवार (5 मई) को इंटीरियर डिजाइनर ने अपने आवास पर आत्महत्या कर ली थी। इंटीरियर डेकोरेटर की पहचान अन्वय नाईक (53) के तौर पर हुई है। इंटीरियर डिजाइनर की पत्नी ने अर्नब गोस्वामी के चैनल रिपब्लिक टीवी पर बकाया राशि नहीं देने का आरोप लगाया है।

पुलिस अधीक्षक अनिल परासकर ने बताया कि भारतीय दंड संहिता की धारा 306 (खुदकुशी के लिए उकसाना) के तहत अलीबाग पुलिस ने पड़ोसी रायगढ़ जिले में मामला दर्ज कर लिया है। गोस्वामी के साथ दो अन्य आरोपियों की पहचान दो फर्मों के मालिक फिरोज शेख और नीतेश शारदा के रूप में हुई है। पुलिस ने बताया कि अनवे नायक नाम के इंटीरियर डिजाइनर ने 5 मई को अलीबाग स्थित अपने बंगले में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। नायक के शव के पास ही उनकी मां कुमुद का भी शव बरामद किया गया है।

हालांकि पुलिस अभी इस मामले की जांच कर रही है कि आखिर नायक की मां कुमुद की मौत कैसे हुई। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अनवे नायक ने एक सुसाइड नोट छोड़ा है। इसी सुसाइड नोट के आधार पर पुलिस ने अर्नब गोस्वामी सहित तीन लोगों के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज किया है। अर्नब के अलावा फरोज शेख और नीतेश सारदा के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है। अन्वय कॉनकोर डिजाइन्स प्राइवेट लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर थे।

मृतक की पत्नी ने लगाए आरोप

एएसपी (रायगढ़) संजय पाटिल ने बताया कि मृतक की पत्नी अक्षता की शिकायत के आधार एक एफआईआर अर्नब गोस्वामी के रिपब्लिक टीवी, फिरोज शेख और नीतेश सारदा के खिलाफ दर्ज कर ली गई है। रिपोर्ट के मुताबिक मृतक शख्स इन तीनों लोगों के साथ काम किया था। इन तीनों के नाम मृतक के पास से बरामद सुसाइड नोट में भी लिखे पाए गए हैं।

मृतक की पत्नी अक्षता द्वारा दर्ज कराए गए एफआईआर के मुताबिक, अर्नब पर 83 लाख रुपये का उधार है। कॉनकोर्ड डिजाइन प्राइवेट कंपनी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक अनवय नायक ने कथित तौर पर सुसाइड नोट लिखा था जिसमें उन्होंने इन तीनों पर आरोप लगाया था कि ये सभी उनके 5.40 करोड़ रुपए नहीं चुका रहे हैं इसलिए वह अपनी
जान लेने को मजबूर हैं।

पत्नी ने भी रिपब्लिक टीवी पर काम के बदले बकाया राशि नहीं देने का आरोप लगाया है। मृतक की पत्नी ने शिकायत में आरोप लगाया है कि गोस्वामी सहित तीनों ने बकाया राशि का भुगतान नहीं किया था, जिससे पति को बिजनेस में काफी नुकसान उठाना पड़ा, जिससे उन्होंने आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया।

चैनल ने आरोपों को किया खारिज

हालांकि, रिपब्लिक टीवी ने इन आरोपों का खंडन करते हुए कहा है कि कुछ समूह इस दुखद घटना का फायदा उठाकर कंपनी के खिलाफ गलत प्रचार कर रहे हैं। रिपब्लिक टीवी ने पत्नी के आरोपों को बेबुनियाद बताया है। चैनल की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि ऐसे व्यक्ति के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी जो नायक से संबंधित किसी भी मामले में संलिप्त पाया गया है।

चैनल द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि रिपब्लिक टीवी यह भी स्पष्ट करना चाहता है कि उसने दिसंबर 2016 में कभी-कभी एक कॉनकॉर्ड डिज़ाइन प्राइवेट लिमिटेड की सेवाएं ली थीं। जिसकी पेमेंट डिटेल, चैक नंबर, राशि, अदायगी की तारीख और अन्य संबंधित दस्तावेज चैनल के पास अभी हैं। जांच अधिकारियों को जब भी इनकी जरुरत होगी उन्हें मुहैया करा दी जाएंगी। हमारी संवेदनाएं नायक के परिवार के साथ हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here