सीता को ‘टेस्ट ट्यूब बेबी’ बताने पर यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के खिलाफ अदालत में शिकायत, अमित शाह को भी बनाया सह-आरोपी

0

पिछले दिनों त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने महाभारत काल में इंटरनेट और सैटेलाइट होने का दावा कर सुर्खियों में आए थे। वहीं, अब सीएम बिप्लब देब के बाद उत्तर प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा अपने एक बयान को लेकर चर्चा में आ गए है। दिनेश शर्मा ने सीता माता के जन्म की तुलना टेस्ट बेबी ट्यूब की अवधारणा से कर दी है। उन्होंने कहा कि लोग कहते हैं कि सीता जी का जन्म धरती के अंदर से निकले घड़े में हुआ, इसका मतलब है कि रामायण काल में भी टेस्ट ट्यूब बेबी की अवधारणा जरूर रही होगी।

दिनेश शर्मा
PHOTO: @drdineshbjp

इस बीच इस बयान को लेकर दिनेश शर्मा मुश्किल में फंस गए हैं। शर्मा के खिलाफ शाहजहांपुर की सीजेएम कोर्ट में केस दाखिल किया गया है। सीता को ‘टेस्ट ट्यूब बेबी’ बताने वाले उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा के विरुद्ध शाहजहांपुर के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में परिवाद दायर किया गया है। मामले में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और यूपी के पार्टी प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पाण्डेय को भी सह-आरोपी बनाया गया है।

समाचार एजेंसी IANS के मुताबिक अधिवक्ता बीएन सिंह यादव ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में गत चार जून को दायर किए गए परिवाद संख्या 3567 में प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा पर आरोप लगाया है कि उन्होंने हिंदुओं की भावनाओं को आहत करते हुए माता सीता को टेस्ट ट्यूब बेबी बताया है। यादव ने कहा कि उपमुख्यमंत्री के सार्वजनिक रूप से यह टिप्पणी करने के बाद भी बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तथा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडे ने उपमुख्यमंत्री शर्मा के विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं की। इससे जाहिर होता है कि वे दोनों भी इस अपराध में शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि वह इस मामले को लेकर सदर बाजार थाने गए थे लेकिन रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई थी तब उन्होंने अदालत की शरण ली। अदालत में उप मुख्यमंत्री शर्मा, अमित शाह तथा महेंद्र नाथ पांडे के विरुद्ध धारा 298, 120 बी के तहत परिवाद दायर कर लिया है और मामले की अगली सुनवाई 14 जून को निर्धारित की है।

मालूम हो कि उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने हाल में एक कार्यक्रम में कहा था ‘‘रामचन्द्र जी जब (लंका से) लौटे तो पुष्पक विमान से वापस आए। उस समय भी विमान था। सीताजी का जन्म हुआ तो घड़े से हुआ, तो उस समय टेस्ट ट्यूब बेबी का कोई ना कोई प्रोजेक्ट रहा होगा।‘‘ उन्होंने कहा था ‘‘जनक जी ने जो हल चलाया और घड़े के अंदर से निकली बेबी सीता जी बन गयी, ये कोई ना कोई तकनीक, जैसे आजकल का टेस्ट ट्यूब बेबी है, वैसा कुछ रहा होगा।

वहीं, इससे पहले उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने वर्तमान समय को महाभारत से जोड़कर ‘दिव्य ज्ञान’ दिया था। दिनेश शर्मा ने दावा किया था कि पत्रकारिता की शुरुआत हाल-फिलहाल में नहीं, बल्कि महाभारत के समय ही हो गई थी। हिंदी पत्रकारिता दिवस के मौके पर 30 मई को उन्होंने कहा था कि महाभारत के समय संजय धृतराष्ट्र के लिए लाइव टेलिकास्ट किया करते थे। इतना ही नहीं, उन्होंने नारद की तुलना गूगल से भी की थी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here