गोरखपुर हादसा: प्रेस कॉन्फेंस के दौरान भावुक हुए CM योगी, बोले- बाहर रहकर फेक रिपोर्टिंग नहीं करनी चाहिए

0

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यक्षेत्र गोरखपुर की बदहाल व्यवस्था को दर्शाने वाली घटना के सामने आने से हड़कंप मच गया है। बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में 48 घंटे के दौरान 33 और पिछले छह दिनों में 64 से अधिक मासूमों की मौत ने सबको झकझोर दिया है। लेकिन सरकार और प्रशासन अपनी किसी भी कमी और लापरवाही की बात से पल्ला झाड़ लिया है। हालांकि, मेडिकल कालेज के प्राचार्य को निलंबित कर अपनी जवाबदेही को दिखाया है।इस बीच रविवार(13 अगस्त) को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के BRD अस्पताल पहुंचे और अस्पताल का दौरा किया। सीएम योगी के साथ में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा भी अस्पताल पहुंचे हैं। दौरे के बाद मुख्यमंत्री योगी प्रेस कॉन्फेंस के दौरान पत्रकारों से कहा कि BRD अस्पताल की घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी चिंतित हैं, उन्होंने पूरी तरह से मदद का भरोसा दिया है। सीएम योगी ने कहा कि घटना की जांच जरूरी है।

Also Read:  सोनिया, राहुल के खिलाफ अभद्र टिप्पणी को लेकर BJP नेता और न्यूज 18 इंडिया के डायरेक्टर के खिलाफ मेरठ कोर्ट में शिकायत

इस दौरान सीएम योगी ने मीडिया कवरेज पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि ”आप सभी लोग सरकारी अस्‍पतालों में जाइए। बाहर से रिपोर्टिंग नहीं, मौके पर जाइए वार्ड में। मैं आपको इस बात की सुविधा देने जा रहा हूं। प्रत्‍येक पत्रकार को कैमरा के साथ भीतर जाने की इजाजत होगी।

उन्‍होंने कहा कि बाहर रहकर फेक रिपोर्टिंग नहीं करनी चाहिए। सभी पत्रकारों को वार्ड के अन्दर जाकर यथास्थिति की जानकारी लेनी चाहिए। मुझे इन्सेफेलाइटिज की पीड़ा है। सीएम ने कहा कि केंद्र व राज्‍य के कई अधिकारी गोरखपुर में मौजूद हैं। प्रधानमंत्री जी ने पूरी मामले की जानकारी लेने के लिए कुछ स्‍तरीय चिकित्‍सकों की टीम यहां भेजी हैं। उन्‍होंने अपना कार्य भी शुरू कर दिया है।

Also Read:  साक्षी महाराज के बाद एक और BJP सासंद ने राम रहीम का किया बचाव, कहा- महान संतों के साथ ऐसे बर्ताव से सहमत नहीं

प्रेस कॉन्फेंस के दौरान सीएम योगी भावुक भी हुए। उन्होंने कहा कि इंसेफेलाइटिस के खिलाफ शुरू से हम लोग लड़ते रहे हैं। सीएम बनने के बाद यह बीआरडी मेडिकल कॉलेज का मेरा चौथा दौरा है।  हर बार इंसेफेलाइटिस वार्ड का निरीक्षण करता हूं। उन्‍होंने कहा कि इस हादसे की जांच के लिए चीफ सेक्रेटरी की अध्यक्षता में एक समिति बनाई गई है। रिपोर्ट के आने के बाद दोषियों के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई की जाएगी। दोषियों को ऐसी सजा मिलेगी जो मिसाल बनेगी।

सीएम योगी ने कहा कि मैं 1996-97 से इस लड़ाई को लड़ रहा हूं। उन बच्चों के लिए मुझसे ज्यादा संवेदनशील कोई नहीं हो सकता। मैं इंसेफेलाइटिस के खिलाफ सड़क से संसद तक लड़ा हूं। उन्होंने कहा कि राज्य के 90 लाख बच्चों को वैक्सीन देकर इनसेफ्लाइटिस के खिलाफ लड़ाई का आगाज किया है। इस लिहाज से इस पीड़ा के बारे में मुझसे ज्‍यादा कोई नहीं जान सकता।

Also Read:  2015 वोक्सवैगन पोलो कार का लांच , 5.23 लाख रुपये से शुरुआत

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए सीए योगी ने कहा कि जिनकी संवेदनाएं स्वयं मर चुकी हैं वे इस संवेदनशील विषय पर राजनीति कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद जब केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री थे, तब यहां आए थे और बयान याद होगा कि उन्‍होंने कहा था कि हम इसमें कुछ नहीं कर सकते, क्‍योंकि ये राज्‍य का मामला है। तो जिनकी संवेदनाएं खत्‍म हो गईं हैं, उनसे कुछ सुनने की जरूरत नहीं हैं।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here