पद्मावती विवाद: CM योगी बोले- फिल्म को सेंसर बोर्ड से पहले कुछ खास लोगों को क्यों दिखाया?, अगर इतिहास के साथ छेड़छाड़ होगी तो स्थिति खराब होगी

0

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार (20 नवंबर) को कहा कि भगवा ऊर्जा का प्रतीक है और हम राज्य को ऊर्जावान बनाएंगे। उन्होंने कहा कि हमने राज्य के प्रसाशन में नेताओं की दखलंदाजी बंद करवाई है, आज अपराधी राज्य छोड़कर भाग रहे हैं। इसके साथ ही सीएम योगी ने पद्मावती विवाद पर कहा कि अगर फिल्म में कुछ गलत नहीं तो डर क्यों रहे हैं, सेंसर बोर्ड से पहले कुछ खास लोगों को क्यों दिखाया?ABP शिखर सम्मेलन में सीएम योगी ने फिल्म पद्मावती पर जारी विवाद पर कहा कि अगर इतिहास के साथ छेड़छाड़ नहीं हुआ है तो फिर क्यों ये डर रहे हैं। दाल में कुछ काला है तभी तो जो लोग रिलीज से पहले दिखाने की मांग कर रहे हैं, वह नहीं मान रहे हैं।

योगी ने कहा कि जनभावनाओं का सम्मान होना चाहिए। उन्होंने सवाल उठाया कि सेंसर बोर्ड से पहले फिल्म को कुछ खास लोगों को क्यों दिखाया गया? सेंसर बोर्ड ने कह दिया कि कुछ आपत्तिजनक नहीं है तो क्या पद्मावती रिलीज होने देंगे? इस सवाल पर सीएम योगी ने कहा कि देखिए कल्पना में मत जाइए।

सीएम योगी ने कहा कि इतिहास से छेड़छाड़ नहीं तो फिल्म दिखाने डर क्यों रहे हैं। अलग से मीडिया ट्रायल क्यों चलाया जा रहा है। अगर इतिहास के साथ छेड़छाड़ होगी तो स्थिति खराब होगी, हमने इसकी सूचना केंद्र सरकार को दे दी है।राज्य में कानून-व्यवस्था के सवाल सीएम योगी ने कहा कि मेरे कार्यकाल में 1200 से ज़्यादा एनकाउंटर यूपी में हो चुके है। ऑपेरशन क्लीन का अभियान चल रहा है। कई अपराधी आज जेल से बाहर नहीं आना चाहते।

इस कार्यक्रम के दौरान योगी ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि उस बेचारे (राहुल गांधी) को मंदिर में बैठने का तरीका भी नहीं पता, वाराणसी में ऐसे बैठे थे जैसे मस्जिद में नवाज पढ़ रहे हों। पुजारी ने बताया कि मंदिर में कैसे बैठते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस-मुक्त भारत के लिए राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष बनाना जरूरी है।

1 दिसंबर को रिलीज नहीं होगी ‘पद्मावती’

विवादों में घिरी फिल्म ‘पद्मावती’ के निर्माताओं ने रविवार (19 नवंबर) को कहा कि उन्होंने संजय लीला भंसाली की इस फिल्म को रिलीज करने की प्रस्तावित तारीख (1 दिसंबर) टाल दी है। वायाकॉम18 मोशन पिक्चर्स के एक प्रवक्ता ने कहा कि उन्होंने स्वेच्छा से यह फैसला किया है। नई तारीख का जल्द ऐलान किया जाएगा।

‘पद्मावती’ के निर्माण में शामिल स्टूडियो वायाकॉम18 मोशन पिक्चर्स के प्रवक्ता ने कहा कि वायाकॉम18 मोशन पिक्चर्स देश के कानून और केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड जैसी वैधानिक संस्थाओं का पूरा सम्मान करती है। मालूम हो कि इस फिल्म का पहला पोस्टर अक्तूबर में रिलीज किया गया था, जिसके बाद राजपूत संगठनों एवं अन्य ने दावा किया था कि निर्देशक ने ऐतिहासिक तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश किया है।

CM योगी ने भी शांति को बताया था खतरा

इससे पहले यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने भी मौजूदा हालात में फिल्म के रिलीज होने को राज्य की शांति व्यवस्था के लिए खतरा बताया था। राज्य के गृह विभाग ने केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण सचिव को पत्र लिखकर राज्य में फिल्म की रिलीज को टालने की अपील की थी।

पत्र में फिल्म की कहानी और ऐतिहासिक तथ्यों को कथित रूप से तोड़-मरोड़ कर पेश किए जाने की बात कहते हुए इस संबंध में केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सेंसर बोर्ड) को अवगत कराने का अनुरोध किया गया है। इंटेलिजेंस रिपोर्ट का हवाला देते हुए प्रमुख सचिव गृह ने अवगत कराया है कि 1 दिसंबर, 2017 को निर्माता, निर्देशक संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती का देशभर के सिनेमाघरों में रिलीज होना प्रस्तावित है।

फिल्म का विरोध-प्रदर्शन तेज

दरअसल, 9 अक्टूबर, 2017 को इस फिल्म के ट्रेलर के लॉन्च होने के बाद से ही कई सामाजिक, सांस्कृतिक और अन्य संगठनों ने इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है। कुछ राजपूत संगठनों ने भंसाली पर इतिहास को तोड़-मरोड़ कर परोसने और हिंदू भावनाओं को भड़काने का आरोप लगाया है।

दीपिका पादुकोण ने इस फिल्म में पद्मावती का किरदार अदा किया है, जबकि शाहिद कपूर ने महारावल रतन सिंह और रणवीर सिंह ने अलाउद्दीन खिलजी का किरदार निभाया है। गौरतलब है कि केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के प्रमुख प्रसून जोशी ने सेंसर बोर्ड के प्रमाणपत्र के बगैर अनेक टीवी चैनलों के लिये फिल्म प्रदर्शित किये जाने पर आज पद्मावती के निर्माताओं की आलोचना की।

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here