पढ़िए क्यों, कोरोना के खिलाफ जंग में काबिल-ए-तारीफ है सीएम योगी आदित्यनाथ का काम, लॉकडाउन में ऐसे पूरा कर रहे है लोगों की जरूरतें

0

चीन के वुहान शहर से दुनियाभर में फैला जानलेवा कोरोना वायरस पूरे देश में तबाही मचा रहा है। कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या भारत में भी लगातार बढ़ती जा रही है, कोरोना वायरस से भारत में करीब 480 लोगोंं की मौत हो चुकी है। इस बीच, 20 करोड़ से अधिक आबादी वाले उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस सबसे बड़ी चुनौती बनकर सामने आई है, यहां पर अब तक कोरोना से 14 लोगों की मौत हो चुकी है। देश के सबसे बड़े राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लॉकडाउन के दौरान जिस तरह सख्ती से कोरोना को रोकने के लिए एक-एक के बाद कदम उठा रहे है वो काफी सराहनीय है। बता दें कि, उत्तर प्रदेश की पुलिस भी इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव है। कोविड-19 वैश्विक महामारी को दृष्टिगत रखते हुए नोएडा के जिलाधिकारी सुहास एल वाई बहुत ही गंभीरता के साथ कार्यवाही सुनिश्चित कर रहे हैं ताकि सभी जनपद वासियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित किया जा सके।

कोरोना

तबलीगी जमातियों को लेकर जुड़ी फर्जी खबरों पर यूपी पुलिस की प्रतिक्रयाएं

यूपी पुलिस ने सांप्रदायिक तनाव फैलाने के इरादे से शेयर की जा रही गलत जानकारियों और फर्जी खबरों पर खूब अपनी प्रतिक्रियाएं दी और कई मीडिया संस्थान को चेतावनी भी देते नजर आए। तबलीगी जमात के सदस्यों को राज्य से क्वारंटाइन में रखे जाने के बाद से सोशल मीडिया पर ऐसी फर्जी खबरें देखने को मिल रही हैं। हाल ही में एक समाचार रिपोर्ट में कहा गया था कि सहारनपुर में क्वारंटाइन जमातियों ने मांसाहारी भोजन की मांग को लेकर हंगामा किया। जिसके बाद सहारनपुर पुलिस ने एक प्रेस नोट जारी करते हुए कहा कि जांच के बाद यह सूचना फर्जी पाई गई और खबरें गलत थीं। पुलिस ने सोशल मीडिया पर ऐसी कोई भी बात पोस्ट करने से पहले मीडिया को जांचने की सलाह भी दी थी।

वहीं, उसके बाद ज़ी मीडिया भी तबलीगी जमातियों के बारे में फर्जी खबर फैलाता हुआ पकड़ा गया था। उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद पुलिस की प्रतिक्रिया के बाद ज़ी मीडिया ने अपने फर्जी ख़बर को अपने ट्विटर अकाउंट से डिलीट कर दिया था। वहीं, इसी तरह समाचार एजेंसी एएनआई ने भी एक ख़बर ट्वीट किया था, जिसे नोएडा पुलिस ने फर्जी करार दे दिया था। नोएडा पुलिस की फटकार के बाद एएनआई यूपी ने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया था।

सीएम योगी ने नोएडा में अधिकारियों के साथ की थी बैठक

गौतमबुधनगर जिले में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ 30 मार्च को नोएडा पहुंचे थे और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक की थी। बैठक के दौरान उन्होंने गौतमबुधनगर के जिलाधिकारी रहे बीएन सिंह तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी को जमकर भी फटकार लगाई थी। इस दौरान जिलाधिकारी बीएन सिंह ने सफाई देनी चाही तो सीएम योगी नाराज हो गए और उन्होंने कहा कि अपनी बकवास बंद करिए।

वहीं, योगी आदित्यनाथ से मिली फटकार के बाद गौतमबुद्धनगर के जिलाधिकारी ने तीन महीने की छुट्टी मांगी। उन्होंने एक पत्र लिखकर कहा कि मैं नोएडा में काम नहीं करना चाहता। बीएन सिंह की ओर से छुट्टी अप्लाई करने पर राज्य सरकार ने उन्हें नोएडा के डीएम पद से हटा दिया और उनके स्थान पर 2007 बैच के IAS अधिकारी सुहास एलवाई को नोएडा का नया डीएम बनाया, जो जिले के लोगों के लिए बहुत अच्छा काम कर रहे हैं।

यूपी में इन जिलों को किया गया है पूरी तरह से सील

बता दें कि, कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बुधवार (8 अप्रैल) को 15 जिलों को पूरी तरह से सील करने का आदेश दिया था। इनमें लखनऊ, गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, आगरा, कानपुर, वाराणसी, शामली, मेरठ, सीतापुर, बरेली, बुलंदशहर, फिरोजाबाद, बस्ती, सहारनपुर और महाराजगंज शामिल हैं। ये सभी जिले कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं।

उत्तर प्रदेश के 15 जिलों में 125 हॉटस्पॉट इलाके हैं, जहां लॉकडाउन का सख्ती से पालन भी हो रहा है। 15 जिलों के हॉटस्पॉट इलाके में करीब 1211 लोग होम डिलीवरी कर रहे हैं। जहां-जहां हॉटस्पॉट क्षेत्र हैं उन-उन घरों में होम डिलीवरी के माध्यम से राशन की दुकानों से लोगों के घरों तक सामान पहुंचाया जा रहा है। वहीं, देश की राजधानी दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के नोएडा जिले में भी करीब 22 ऐसे हॉटस्पॉट हैं जिन्हें सील किया गया है। इस दौरान इन इलाकों या सोसायटी में से किसी को भी बाहर निकलने की अनुमति नहीं होगी। सिर्फ मीडियाकर्मियों और जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को आने-जाने की इजाजत दी गई है।

गौतमबुद्धनगर जिले में इन इलाकों को किया जा रहा है पूरी तरह सील:

1. सेक्टर 41
2. हाइड पार्क सेक्टर-78, सुपरटेक केपटाउन सेक्टर-74
3. लोटस बोलवार्ड सेक्टर-100
4. अल्फा-1, ग्रेटर नोएडा
5. निराला ग्रीनशायर सेक्टर-2, ग्रेटर नोएडा, इसके साथ पटवारी गांव
6. लॉजिक्स ब्लॉसम काउंटी सेक्टर-137 नोएडा, पारस टिएरा सेक्टर-137 नोएडा और वाजिदपुर गांव
7. एटीएस डॉल्सी जीटा-1, ग्रेटर नोएडा
8. एस गोल्फशायर सोसायटी, सेक्टर-150 नोएडा
9. सेक्टर 27 और सेक्टर 28
10. ओमाइक्रॉन-3, सेक्टर-3 ग्रेटर नोएडा
11. महक रेजिडेंसी, अछेगा, ग्रेटर नोएडा
12. जेपी विशटाउन, सेक्टर-128 नोएडा
13. सेक्टर-44 नोएडा
14. विश्नोई गांव, पोस्ट- दुजाना, दादरी
15. सेक्टर-37 नोएडा
16. गांव घोड़ी बछेड़ा, गौतमबुद्ध नगर
17. स्टेलर एमआई ओमाइक्रॉन-3 ग्रेटर नोएडा
18. पाम ओलम्पिया, गौर सिटी-2, ग्रेटर नोएडा वेस्ट सेक्टर 16
19. सेक्टर-22 चौड़ा गांव नोएडा
20. ग्रैंड ओमैक्स, सेक्टर 93बी, नोएडा
21. सेक्टर-5 और सेक्टर-8, जेजे कॉलोनी नोएडा
22. डिजाइनर पार्क सेक्टर-62 नोएडा

इस लिस्ट में कुल 12 क्लस्टर, 10 हॉटस्पॉट और 34 क्षेत्र शामिल हैं।

जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने लोगों से अफवाहों से बचने की अपील की है। उन्होंने कहा कि पैनिक में आकर खरीददारी ना करें। जरूरी सामानों की आपूर्ति ऑनलाइन डिलिवरी के माध्यम से की जाती रहेगी। नोएडा के डीएम ने बीते दिनों एक ट्वीट करके उन सब्‍जी/फल विक्रेताओं की सूची जारी थी जो शहर के हॉटस्‍पॉट वाले एरिया मे उपलब्‍ध रहेंगे। डीएम ने बताया कि ये सब्‍जी/फल रोजाना सुबह सुबह 10 बजे से उपलब्‍ध रहेंगे। गौतम बौद्ध नगर के जिला मजिस्ट्रेट सुहास लालिनकेरे ने एक ट्वीट करके घोषणा की, “एकीकृत नियंत्रण कक्ष 18004192211, हम आपकी सेवा में हैं”

वहीं, स्थानीय लोगों के अनुसार नोएडा के नए जिलाधिकारी सुहास एलवाई उनके लिए अच्छा काम कर रहे है और उन्हें किसी भी परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ा रहा है। लोगों का कहना है कि, उन्हें जरुरत की सारी चीजें समय और आसानी से मिल रहीं है। लोगों के मुताबिक, यहां पर हमें एक दिन पहले ही पता चल जाता है कि, हमारे यहां पर कौन आज समान की सप्लाई करेंगा। हमें एक दिन पहले ही उनके नंबर मिल जाते है। यहां के स्थानिय लोग अपने नए जिलाधिकारी सुहास एलवाई के कामों से बहुत खुश है।

बता दें कि, दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। दुनियाभर में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 150000 के पार पहुंच चुकी है। वहीं, दुनिया भर में अब तक 20 लाख से ज्यादा लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। हालांकि, 4 लाख के करीब कोरोना मरीज ठीक भी हुए हैं। कोरोना वायरस की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या सबसे ज्यादा इटली में हैं। यहां 18 हजार 800 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा अमेरिका और स्पेन में मरने वालों का सिलसिला थमता दिखाई नहीं दे रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here