जिंदगी की जंग हार गईं जयललिता, आज शाम 4:30 बजे होगा अंतिम संस्कार

0

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता का सोमवार रात अपोलो अस्पताल में निधन हो गया। वो 22 सितंबर से अपोलो अस्पताल में भर्ती थीं और कल रात दिल का दौरा पड़ने के बाद जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष करते हुए आखिरकार उन्होंने दम तोड़ दिया।

जयललिता राज्य की एक लोकप्रिय नेता थीं, जिन्होंने अपने लोकलुभावन कार्यक्रमों से गरीबों का दिल जीता और पिछले तीन दशक से प्रदेश की राजनीति में एक ध्रुव थीं।

मुख्यमंत्री जे जयललिता

पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए राजाजी हॉल में रखा गया है। अंतिम दर्शन के लिए बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ रही है। अंतिम संस्कार आज शाम  4:30 बजे होगा। जयललिता के देहांत की खबर से पूरे राज्य में शोक की खबर फैल गई। वहीं, ओ पनीरसेल्वम को राज्य का मुख्यमंत्री बनाया गया है।

Also Read:  राजकीय सम्मान के साथ हुआ जयललिता का अंतिम संस्कार, नम आखों से समर्थकों और नेताओं ने दी विदाई

तीन दशकों से राज्य की राजनीति का एक ध्रुव रहीं और गरीबों के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू करने वाली लोकप्रिय नेता के निधन से प्रदेश की राजनीति में बड़ी रिक्ति पैदा हुई है।

Congress advt 2

अपोलो अस्पताल ने एक वक्तव्य में बताया कि 68 वर्षीय जयललिता को रविवार की शाम गंभीर दिल का दौरा पड़ा था और आज रात साढ़े ग्यारह बजे उनका निधन हो गया। उन्हें गत 22 सितंबर को अपोलो अस्पताल में बुखार और निर्जलीकरण की शिकायत के बाद भर्ती कराया था और उसके बाद वह कभी उबर नहीं सकीं।

Also Read:  गोवा-मणिपुर में सरकार गठन पर राहुल गांधी बोले- पैसे का इस्तेमाल कर BJP ने लोकतंत्र को किया कमजोर

उनके निधन की घोषणा के दो घंटे बाद तेजी से राजनैतिक परिवर्तन के तहत उनके वफादार ओ पनीरसेल्वम को राजभवन में एक सादे समारोह में मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई। पूर्ववर्ती जयललिता मंत्रिमंडल के सभी मंत्रियों को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई गई।

Also Read:  रजनीकांत ने बारिश प्रभावित तमिलनाडु को दिए 10 लाख रुपये

पनीरसेल्वम दो बार पहले भी जयललिता की जगह पर मुख्यमंत्री बने थे, जब उन्हें भ्रष्टाचार के मामलों में दोषी ठहराया गया था। गत सितंबर में अपोलो अस्पताल में भर्ती किए जाने के बाद जयललिता के पास जिन विभागों का प्रभार था उन्हें राज्य के वित्त मंत्री के तौर पर पनीरसेल्वम को सौंपा गया था।

जब जयललिता के निधन की घोषणा हुई उस दौरान पार्टी मुख्यालय पर जयललिता के उत्तराधिकारी के तौर पर पनीरसेल्वम को चुनने के लिए अन्नाद्रमुक विधायकों की बैठक हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here