गुरुग्राम: आस्था के नाम पर शिवसेना की गुंडागर्दी, कार्यकर्ताओं ने जबरन बंद कराईं 500 से ज्यादा मीट की दुकानें

0

मुंबई के बाद अब शिवसेना कार्यकर्ताओं का आतंक राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम में भी देखने को मिल रहा है। जी हां, गुरुवार(21 सितंबर) को शिवसैनिकों द्वारा आस्था के नाम पर जबरन करीब 500 से ज्यादा मीट की दुकानों को बंद कराने की बात सामने आई है। न्यूज एजेंसी ANI द्वारा जारी तस्वीर में गुरुग्राम के शिवसेना कार्यकर्ता मीट की दुकानों को बंद कराते नजर आ रहे हैं।

Photo: HT/ANI

शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने सभी दुकानों के बाहर 28 सितंबर तक सभी मीट की दुकानों को बंद रखने का पोस्टर भी चस्पा दिया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, शिवसैनिकों ने गुरुग्राम के अलग-अलग क्षेत्रों में पहुंचकर करीब 500 से ज्यादा मीट की दुकानों को बंद करवा दिए।

शिवसैनिकों ने गुरुवार को पालम विहार में जमा हुए और सूरत नगर, अशोक विहार, सेक्टर पांच और नौ, पटौदी चौक, जैकबपुरा, सदर बाजार, खांडसा अनाज मंडी, बस स्टैंड, डीएलएफ क्षेत्र, सोहना और सेक्टर 14 बाजार में मांस की दुकानों को बंद करा दिया।

इस बारे में न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में शिवसेना की गुड़गांव इकाई के महासचिव और प्रवक्ता रितु राज ने कहा कि गुरुग्राम में 50 फीसद से अधिक मीट की दुकानें पहले से ही बंद हैं। वहीं, जो दुकानें चालू थीं उन्हें भी हमने बंद करा दिया है। राज ने कहा कि उन्होंने मांस और चिकन की हर दुकान को नोटिस दिया था।

उन्होंने कहा कि इस बार हमने चिकन परोसने वाले रेस्तरां और अन्य फूड चेन्स को नोटिस नहीं दिया है, क्योंकि वहां यह खुले में नहीं दिखा है। अगर कोई निर्देशों का पालन नहीं करेगा तो वह परिणामों का सामना करेगा। शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने मांसहारी व्यंजन परोसने वाली अन्य खाद्य इकाइयों को नोटिस देकर नवरात्र खत्म होने तक अपनी दुकानों को बंद करने को कहा है।

वहीं, आस्था के नाम पर जबरन मीट की दुकानों को बंद करवाने के सवाल पर रितु राज ने कहा कि शिवसेना ने पहले ही इस मामले में गुरुग्राम प्रशासन को एक ज्ञापन दिया था। इसमें मांग की थी कि हिंदुओं के पवित्र त्योहार नवरात्र के दौरान सभी मीट की दुकानें बंद रहनी चाहिए।

हालांकि, व्यापारियों का आरोप है कि शिवसेना कार्यकर्ताओं द्वारा उन्हें दुकान बंद करने के लिए धमकाया गया है। वहीं, इस मामले में पुलिस का कहना है कि जबरन दुकानें बंद नहीं कराई जा सकती हैं। अगर शिवसैनिकों द्वारा ऐसा हुआ है तो पुलिस इस मामले की जांच करेगी। पुलिस का कहना है कि वे इस संबंध में शिकायत दर्ज कराए जाने का इंतजार कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here