अरुणाचल प्रदेश में 1 किलोमीटर अंदर तक घुसी चीन की रोड बनाने वाली टीम, भारतीय सेना ने खदेड़ा

0

डोकलाम विवाद पर मुंह की खाने के बाद भी चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। उसने एक बार फिर से भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ करने की हिमाकत की है। हालांकि भारतीय सेना ने चीनी सैनिकों को अरुणाचल प्रदेश में खदेड़ दिया है, लेकिन इस घटना के बाद एक बार फिर से चीन ने अपनी हरकत दिखाना शुरू कर कर दिया है।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

न्यूज एजेंसी PTI की रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने एक बार फिर भारतीय सीमा के भीतर हस्तक्षेप करने की कोशिश की है।चीन की एक सड़क बनाने वाली टीम अरुणाचल प्रदेश के तूतिंग इलाके में करीब एक किलोमीटर अंदर तक आ घुसी। सरकारी सूत्रों ने बताया कि पिछले हफ्ते हुई इस घटना में भारतीय सेना ने चीनी टीम को वापस लौटाया।

PTI के हवाले से नवभारत टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक सूत्रों ने बताया कि चीन की सिविलियन टीम ट्रैक अलाइनमेंट के लिए आई थी और भारतीय सेना से सामना होने के बाद वापस लौट गई। उन्होंने बताया कि चीनी टीम ने रोड बनाने में इस्तेमाल होने वाले विभिन्न उपकरण भारतीय इलाके में ही छोड़ दिए। हालांकि एक स्थानीय ग्रामीण के मुताबिक चीनी टीम में सिविलियन के अलावा वर्दीधारी सैनिक भी थे।

रिपोर्ट के मुताबिक यह घटना 28 दिसंबर की बताई जा रही है। बता दें कि 73 दिनों तक चले डोकलाम विवाद के खत्म होने के करीब 4 महीने बाद एक बार फिर चीन की तरफ से ऐसी घटना हुई है। सूत्रों ने बताया कि 28 दिसंबर को इंडियन बॉर्डर पट्रोलिंग टीम ने पाया कि चीन की एक टीम तूतिंग इलाके में ट्रैक अलाइनमेंट कर रही है। सूत्र ने बताया कि हालांकि दोनों पक्षों के आमने-सामने होने की घटना नहीं हुई और तय प्रक्रिया के तहत ही मामला सुलझा लिया गया।

स्थानीय ग्रामीणों के मुताबिक चीनी सैनिक सड़क बनवाने के काम में शामिल थे। भारतीय सुरक्षाबल ने उन्हें तूतिंग सबडिविजन बिसिंग गांव के पास ऐसा करते देखा। ग्रामीणों के मुताबिक भारतीय सैनिकों ने चीनी टीम के रोड बनाने के उपकरण सीज कर लिए। एक ग्रामीण ने बताया कि घटनास्थल से करीब 7-8 किमी के एरियल डिस्टेंस सियांग नदी के किनारे गेलिंग से भी रोड कटिंग साफ देखी जा सकती है।

उनके मुताबिक हाल में काटी गई सड़क पर भारतीय और चीनी सैनिकों ने अपने टेंट लगा दिए और बोल्डर की दीवार खड़ी कर दी। ग्रामीणों ने चीनी दल के घुसने की सूचना स्थानीय पुलिस जवान को दी। जवान ने बिशिंग में तैनात आईटीबीपी तक इसकी जानकारी पहुंचाई। आईटीबीपी के जवानों ने मौके पर पहुंचकर चीनी पक्ष को वापस लौटने को कहा। दोनों पक्षों में कहासुनी भी हुई लेकिन चीनियों ने पीछे हटने से इनकार कर दिया।

भारतीय सेना को भी घटनास्थल पर पट्रोल के लिए भेजा गया। स्थानीय लोगों के मुताबिक जवान अभी वहीं मौजूद हैं।हालांकि यह इलाका आईटीबीपी के दायित्वक्षेत्र में आता है लेकिन यहां भारी संख्या में आर्मी भी तैनात है। इस संबंध में जब अपर सियांग के डीसी से संपर्क किया गया तो उन्होंने किसी भी तरह की चीनी घुसपैठ की रिपोर्ट होने से इनकार कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here