भारत के चीफ जस्टिस ने मोदी के भाषण पर उठाये सवाल, आगे कहा लोगों को पता है कौन क्या कर रहा है

7

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस टी एस ठाकुर ने पीएम मोदी के स्वतंत्रता दिवस के भाषण पर सवाल करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री डेढ़ घंटे तक बोले लेकिन जजों की नियुक्ति पर कुछ भी नहीं कहा।

उन्होंने आगे कहा कि लोग जानते हैं कि कौन क्या कर रहा है।

स्वतंत्रता दिवस पर आयोजित सुप्रीम कोर्ट में एक प्रोग्राम में बोलते हुए जस्टिस ठाकुर ने कहा कि वो अब अपने करियर के शीर्ष पर पहुँच चुके हैं और इसलिए अब उन्हें बेबाकी से अपने राय देने में कोई हिचकिचाहट नहीं होती।

proxy
एबीपी न्यूज़ के अनुसार जस्टिस ठाकुर ने कहा, “देश के लोकप्रिय पीएम डेढ़ घंटा बोले. लॉ मिनिस्टर भी बोले. मैंने सोचा था इंसाफ की, जजों की नियुक्ति की भी बात होगी। लोग जानते हैं, कौन क्या कर रहा है. आज देश के लिए कुर्बानी देने वालों को याद करने का दिन है। ”

खालिस हिंदुस्तानी में बोल रहे चीफ जस्टिस ने कहा, “आज का दिन बेहद अहम है. हमने क्या किया, क्या करेंगे ये बताकर आज के दिन की अहमियत कम नहीं करना चाहता.”

इस मौक़े पर जस्टिस ठाकुर ने एक शेर भी पढ़ा, “गुल फेंके है औरों की तरफ़ बल्कि समर भी
ऐ ख़ानाबर अंदाज़-ए-चमन कुछ तो इधर भी”

चीफ जस्टिस ने सरकार से गरीबी और बेरोज़गारी पर खास ध्यान देने की अपील की. उन्होंने कहा कि गरीबी रेखा ऐसे बनाई गई है, जैसे आदमी को सिर्फ 2 वक्त की रोटी चाहिए.

जस्टिस ठाकुर के बयान पर टिपण्णी करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने उनकी हिम्मत की सराहना की

केजरीवाल ने कहा, ” मैं भारत के चीफ जस्टिस की साहस, दृढ विश्वास और इन्साफ के प्रति उनकी फ़िक्र की सराहना करता हूँ। ”

जस्टिस ठाकुर का मोदी के बारे में बयान इस वजह से बेहद महत्वपूर्ण है कि पिछले हफ्ते उनकी अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की खंडपीठ ने जजों की नियुक्ति मामले पर केंद्र को आड़े हाथों लिया था।

सुप्रीम कोर्ट ने बहुत ही सख्त लहजा अपनाते हुए कहा था कि वो जजों को अस बारे में कोई फैसला लेने पर मजबूर न करे।

 

  • B UPADHYAY

    प्रमोद कौशिक ‏@PRAMODKAUSHIK9 2h2 hours ago
    जनाब पूरे 94 मिनट अपने ही मुंह मियां मोदी बनकर खुद को तुर्रमखां साबित करने की कोशिशों में नाकामयाब हो गये हैं। https://twitter.com/s_szama/status/765098478221549568

  • parminder singh gill

    The statement of C J I is the most realistic one reflecting the dangerous existing situation of our beloved Nation,all should support and appreciate the same

  • सुभाष

    जिम्मेदार पद पर बैठे व्यक्ति से इतनी असभ्यता की अपेक्षा नहीं थी।

  • Back log in Indian judiciary is JUST lIke big traffic jam in peak hours.Delay in aappointments of judges is hampering judicial system.govt should work towards.

  • AVNEESH VASHISHTH

    I AM DISAPPOINTED WITH INDEPENDENCE SPEACH OF PRIMEMINISTER, THIS WAS AS BJP PARTY SPEAC,, THIS DAY HE SHOULD REMEMBER THE GREAT FREEDOM FIGHTERS. It is not a occasion to count his achievements.

  • JANAK MAKWANA

    Yes really the situation is very critical but unfortunately the rulers do not realise the same and they are still playing the game only…Its very sad….

  • RAJENDRA JAIN

    COMMENT MADE BY HON’BLE CJI IN OF IMMENSE IMPORTANCE AS HE HAS POINTED OUT ABOUT ACCUTE SHORTAGE OF JUDGES IN APEX COURT AND OTHER HIGH COURT OF THE COUNTRY . ON 15TH AUGUST HON’BLE P.M. AND LAW MINISTER HAVE SPOKEN NOTHING ON THIS IMPORTANT ISSUE AS SUCH HON’BLE CJI HAS RIGHTLY REACTED . IT APPEARS THAT COMMENT MADE BY CJI HAS CREATED IMPACT ON GOVT AND TODAY NAMES OF THREE NEW JUDGES FOR M.P HIGH COURT HAVE BEEN CLEARED BY PMO . BUT FOR ONWARD CONTINUITY IN THIS REGARD WE HAVE TO WAIT AND WATCH .