तीन साल में 103 किसानों की मौत, लेकिन मुवाजे के तौर पर रमन सिंह सरकार की ओऱ से सिर्फ 81 रूपये

0
छत्तीसगढ़ सरकार का गरीब किसानों से भद्दा मजाक कर रही हैं। किसानों को फसल नुकसान के मुआवजे के रूप में प्रशासन की ओर से मात्र 81 रूपये की कम कीमत वाले चैक दिए जा रहे है।
99764d51-b5d8-4c31-b61b-77d5eb198084
ऐसा लगता है कि छत्तीसगढ़ की रमन सिंह सरकार गरीब किसानों को आत्महत्या करने के लिये बाध्य कर रही है। पिछले 3 वर्षो के आंकड़े पर नजर डाले तो टाइम्स आॅफ इंडिया की खबर के अनुसार 309 से अधिक मौतें केवल छत्तीसगढ़ में किसानों ने की हैं। जिसमें अकेले सरगुजा जिलें में ही 102 मौतें हुई हैं।
ed5b7d36-bad1-4a01-9c56-efe9233a8f72
रमन सिंह सरकार सरगुजा में किसानों को सूखे के चलते फसलों के भारी नुकसान के मुआवजे के नाम पर 81 रूपये के चैक दे रही है।
कल ही मशहूर अभिनेता नान पाटेकर ने बेहद भावुक अंदाज़ में महाराष्ट्र में किसानों के आत्महत्या करने की वजह बताई थी जिसे जनता के रिपोर्टर ने विस्तार से पब्लिश किया था।
नाना के अनुसार एयरकंडिशंस कमरों में बैठकर मरने वाले किसानों के हालात को नहीं समझा जा सकता है। किसान का बाप बीमार होता है, बच्चे बीमार होते है तो उसके पास दवाई लाने के लिये पैसे भी नहीं होते हैं। तब ऐसे में उसे सिर्फ एक रस्सी का फंदा ही इन सारी मुसीबतों से बचने का एक मात्र जरीया दिखाई देता है।
अब रमन सिंह सरकार किसानों को रस्सी के फंदे तक पहुंचाने में और आसानी कर देगी। क्योंकि 81 रूपये की कीमत में कुछ आए या ना आए लेकिन एक रस्सी का फंदा बनाने लायक रस्सी जरूर आ सकती है। इसलिये पता चलता है कि किस तरह से केवल सरगुजा में 102 किसानों ने आत्महत्या की होगी।
(Photos- ANI)

LEAVE A REPLY