चेतन भगत ने पूछा- क्यों न कहा जाए कि ‘हिंदू’ होने की वजह से मारे गए श्रद्धालु, यूजर ने दिया मजेदार जवाब

0

अमरनाथ तीर्थयात्रियों हुए आतंकवादी हमले की पूरे देश ने एक स्वर में निंदा की है और इसे बेहद शमर्नाक तथा कायरतापूर्ण कृत्य करार दिया है। सोशल मीडिया पर भी इस आतंकी हमले को लेकर लोगों ने जोरदार तरीके से नाराजगी व्यक्त की है। हालांकि, सोशल मीडिया पर यूजर्स दो भागों में बंट गए हैं। एक तरफ दक्षिणपंथी समर्थक जहां इसे हिंदुओं पर हमला बता रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ विपक्ष और अन्य लोग सुरक्षा खामियों पर नाराजगी व्यक्त कर रहे हैं।मशहूर लेखक चेतन भगत ने अमरनाथ आतंकी हमले को जुनैद हत्याकांड से जोड़ते हुए ट्वीट कर पूछा, ‘जब जुनैद की मौत हुई तो मीडिया ने कहा कि उसे मुसलमान होने की वजह से मारा गया। तो फिर ये क्यों न कहा जाए कि अमरनाथ हमले में जो श्रद्धालु मरे हैं, उन्हें हिंदू होने की वजह से मारा गया?’

चेतन भगत के सवाल पर एक यूजर ने जवाब देते हुए ट्वीट किया, ‘लेकिन एक फर्क है। जुनैद को सामान्य सहयात्री नागरिकों ने मारा था। अमरनाथ पर हमला आतंकियों ने किया है, जिनमें विदेशी भी हो सकते हैं। समझे?’

वहीं, केआरके ने चेतन भगत पर हमला बोलते हुए कहा कि नक्सली और खलिस्तान की चाहत रखने वाले लोग भी हिंदुओं को मारते हैं तो आप उनकी तुलना अमरनाथ यात्रियों से क्यों नहीं कर रहे हैं?’

एक अन्य यूजर देबाशीष बहरुआ ने चेतन भगत को जवाब देते हुए लिखा, ‘लेकिन जुनैद के कातिलों को किसी ने आतंकवादी भी नहीं कहा। वो कथित आतंकवादी भीड़ हैं।’ वहीं, एक यूजर ने चेतन को जवाब देने के लिए बस के उस मुस्लिम ड्राइवर सलीम की खबर का इस्तेमाल किया जिसने अपनी बहादुरी से 50 श्रद्धालुओं की जान बचा ली। इनके अलावा कई यूजर्स ने चेतन भगत के सवालों के अपने-अपने हिसाब से जवाब दिए।

Also Read:  NEET की परीक्षा में छात्राओं से जबरन 'ब्रा' उतरवाने की घटना को CBSC ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण

सुरक्षा खामियों पर नाराजगी

Also Read:  'स्पीक अप इंडिया' का दूसरा एपिसोड, 'मोदी की कथनी और करनी में फर्क है'

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here