600 करोड़ रुपए की ठगी करने वाला चैन्नई का ठग दिल्ली में गिरफ्तार, किराए की कोठियों पर लेता था लोन

0

दिल्ली पुलिस ने 600 करोड़ रुपए की ठगी करने वाले एक शातिर ठग शख्स को गिरफ्तार किया है, ठग करने वाले इस शख्स का नाम हर्षवर्धन रेड्डी है। इस शातिर ठग की तलाश केवल दिल्ली पुलिस ही नहीं बल्कि कई राज्यो की पुलिस लंबे समय से कर रही थी। हर्षवर्धन रेड्डी पर आरोप है कि इसने SBI,PNB, कैनरा बैंक समेत कई बैंकों को भी करोड़ों का चूना लगाया है, पुलिस को इसकी तलाश 30-35 मामलों में थी।

दिल्ली

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, महज़ 40 साल की उम्र में हर्षवर्धन ने दिल्ली, चेन्नई, हैदराबाद, मुम्बई, बंगलुरु जैसी मेट्रो सिटीज में ठगी को अंजाम दिया है। मिली जानकारी के अनुसार, एक जगह करोडो की ठगी करने के बाद ये शख्स अपना ठिकाना बदल लेता था। इसने कई बड़े बैंको को भी निशाना बनाया। ये महाठग महंगी लाइफस्टाइल और लग्ज़री गाड़ियों का शौकीन है, दिल्ली पुलिस ने इसकी 3 करोड़ कीमत वाली कार मासेराती को भी जब्त कर लिया है।

पुलिस के अनुसार, आरोपी ने लीज पर ली गई जमीन को चार कंपनियों के नाम पर ट्रासफर की थी ताकि उसे बैंक से लोन लेते समय दिक्कत न हो। फिर वह इस कंपनी से जुड़ी तमाम चीजों को वेबसाइट व अन्य जगहों से खत्म कर देता था। इस वजह से बैंककर्मी उस तक नहीं पहुंच पाते थे। उसने अपने पास कैलिफ़ोर्निया फेरारी, मसरेटी और ऑडी जैसी कई गाड़िया रखी हुई थी, पुलिस के मुताबिक इसके पास कई महंगी गाड़ियां हैं जिन्हें सीज़ किया जा चुका है।

एबीपी न्यूज़ की ख़बर के मुताबिक, ठगी करने वाला शख्स बड़े शहरों के प्राइम लोकेशन पर बड़ी-बड़ी कोठियों को ये किराए पर लेता था। फर्ज़ी कागज़ात बनाकर अपनी कंपनी का पता इन्हीं कोठियों में दिखाता था। फिर इसके दम पर बैंकों से करोड़ों रुपए का लोन ले लेता था, पैसे मिलते ही वह फरार हो कर किसी दूसरे शहर पहुंच जाता था।

चेन्नई में जन्मे हर्षवर्धन ने स्कूल की पढ़ाई के बाद होटल मैनेजमेंट का कोर्स स्विट्ज़रलैंड से किया और उसके बाद MBA करने के लिए ऑस्ट्रेलिया चला गया। जब ये अपनी पढ़ाई पूरी करके वापस भारत आया तो इसके दिमाग में जल्द पैसा कमाने का आईडिया आया और पैसे कमाने के लिए इसने ठगी का रास्ता चुना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here