इन दो न्यूज़ चैनलों को पत्रकारिता नैतिकता के उल्लंघन का पाया गया दोषी, कोर्ट ने दिव्या स्पंदना को 50 लाख रुपये भुगतान करने के दिए निर्देश

0

बेंगलुरु की एक सिविल कोर्ट ने 2013 के आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग घोटाले में गलत तरीके से जोड़कर अभिनेत्री से राजनीतिज्ञ बनीं दिव्या स्पंदना (राम्या) को बदनाम करने के लिए एशियानेट और सुवर्णा न्यूज को दोषी पाया है। दोनों चैनल बीजेपी के राज्यसभा सांसद, राजीव चंद्रशेखर के स्वामित्व में हैं, जिन्होंने 2017 में अर्नब गोस्वामी के साथ रिपब्लिक टीवी की स्थापना की थी। अदालत ने अपने फैसले में चंद्रशेखर के स्वामित्व वाले दो चैनलों को इस मामले में कवरेज के लिए पत्रकारिता की नैतिकता का पूर्ण उल्लंघन बताया है।

लाइव लॉ वेबसाइट के मुताबिक, कोर्ट ने एशियानेट और सुवर्णा न्यूज दोनों को कांग्रेस की सोशल मीडिया और डिजिटल कम्युनिकेशंस हेड दिव्या स्पंदना को स्पॉट फिक्सिंग घोटाले से गलत तरीके से जोड़ने के लिए उत्तरदायी पाया और टीवी चैनलों को 50 लाख रुपये का हर्जाना देने का निर्देश दिया। न्यायालय ने संसद के पूर्व सदस्य को स्थायी निषेधाज्ञा निषेधाज्ञा के लिए इन समाचार नेटवर्कों को मैच फिक्सिंग/स्पॉट फिक्सिंग स्कैंडल से जोड़ने वाले किसी भी कार्यक्रम को प्रसारित करने से रोकने की अनुमति भी दी।

कांग्रेस की पूर्व सांसद राम्या इस समय पार्टी की सोशल मीडिया टीम की कमान संभाल रही हैं। उन्होंने अभी तक इस मामले कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। बता दें कि 6 मई 2017 को रिपब्लिक टीवी की शुरुआत करने के महज दो साल बाद अर्नब गोस्वामी ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर के स्वामित्व वाली इसकी निवेशक कंपनी ‘एशियानेट न्यूज मीडिया एंड एंटरटेनमेंट’ से शेयर वापस खरीद लिए हैं। इसके बाद अब यह कंपनी पूरी तरह से ‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ में तब्दील होने की ओर अग्रसर है।

सोशल मीडिया पर लोगों ने कहना है कि गोस्वामी ने एक पत्रकार से अब एक चतुर व्यापारी में तब्दील हो गए हैं। अब उनके संपादकीय में बीजेपी का कोई प्रभाव नहीं होगा, क्योंकि उन्होंने चंद्रशेखर से अपने शेयर वापस खरीद लिए हैं। रिपब्लिक टीवी का दावा है कि अब यह पूरी तरह से संपादक-नियंत्रित कंपनी होगी, क्योंकि यह कंपनी अब ‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ के अधीन होगी।

अर्नब ने बीजेपी के राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर की कंपनी ‘एशियानेट न्यूज मीडिया’ की मदद से 6 मई 2017 को अपने नए इंग्लिश चैनल ‘रिपब्लिक टीवी’ को लॉन्च किया था, जिसके बाद से ही वह लगातार विवादों में हैं। चंद्रशेखर द्वारा किए गए निवेश की वजह से गोस्वामी को उनके आलोचक बीजेपी समर्थक करार देते रहे हैं। गौरतलब है कि अभी हाल ही में गोस्वामी ने फरवरी 2019 में अपना हिंदी न्यूज चैनल ‘रिपब्लिक भारत’ भी लॉन्च किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here