BJP अध्यक्ष अमित शाह की चिट्ठी का चंद्रबाबू नायडू ने दिया करारा जवाब

0

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिलने से नाराज केंद्र में मोदी सरकार की मुख्य सहयोगी तेलुगू देशम पार्टी(TDP) ने पिछले कुछ दिनों पहले एनडीए का साथ छोड़ दिया। जिसके बाद शुक्रवार(23 मार्च) को भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के अध्यक्ष अमित शाह ने TDP प्रमुख और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू को चिट्ठी लिखी। चिट्ठी में अमित शाह ने नायडू की पार्टी टीडीपी के एनडीए छोड़ने के फैसले को एकतरफा और दुर्भाग्यपूर्ण बताया था।

photo- News Track

वहीं, अब तेलुगू देशम पार्टी(TDP) प्रमुख और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के अध्यक्ष अमित शाह की चिट्ठी का करारा जवाब दिया है। चंद्रबाबू नायडू ने अमित शाह के पत्र को झूठ का पुलिंदा करार देते हुए कहा कि केंद्र का रवैया राज्य के प्रति ठीक नहीं है और वह हमारी सरकार के बारे में भ्रम फैला रहे हैं।

नवभारत टाइम्स.कॉम में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने विधानसभा में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के पत्र का जवाब देते हुए कहा कि, ‘अमित शाह का पत्र झूठ का पुलिंदा है, जिससे उनके रवैये का पता चलता है। केंद्र तो अभी नॉर्थ ईस्ट राज्यों को विशेष सुविधा मुहैया करा रही है। अगर आंध्र प्रदेश को भी इस तरह की सुविधाएं दी गई होती तो यहां कई सारी इंडस्ट्री अभी तक आ चुकी होतीं।’

रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने आगे कहा कि, ‘अमित शाह ने अपने पत्र में लिखा है कि केंद्र ने राज्य को कई सारे फंड दिए हैं, जिनका हम प्रयोग नहीं कर सके हैं। वह कहना चाह रहे हैं कि आंध्र प्रदेश की सरकार सक्षम नहीं है। हमारी सरकार का जीडीपी अच्छा है और कृषि सहित कई राष्ट्रीय पुरस्कार हैं, यह है हमारी क्षमता, आप क्यों झूठ फैला रहे हैं।’

गौरतलब है कि, इससे पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार(23 मार्च) को आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू को चिट्ठी लिखी थी, जो आज मीडिया के सामने आईं।

अमित शाह ने अपनी चिट्ठी में लिखा था कि, ‘यह निर्णय न केवल दुर्भाग्यपूर्ण है बल्कि एकतरफा है, मुझे भय है कि यह निर्णय विकास की चिंता को लेकर नहीं बल्कि राजनीतिक है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आंध्र के विकास के लिए कोई कसर बाकि नहीं रखी है।’

अमित शाह ने आगे लिखा कि, ‘आपको यह याद होगा की पिछली लोकसभा और राज्यसभा में जब आपका प्रतिनिधितव बढ़िया नहीं था तब बीजेपी ने एजेंडा सेट किया। उस वक्त बीजेपी ने सुनिश्चित किया कि तेलुगु लोगों को दोनों राज्यों में न्याय मिले।’

उन्होंने अपनी चिट्ठी में आगे लिखा कि, ‘आपको ये मालूम होगा लेकिन आप यह मानेंगे नहीं कि केंद्र सरकार ने अपनी सारी जिम्मेदारियां पूरी की हैं। बीजेपी आंध्र के लोगों की सच्ची दोस्त और शुभचिंतक है, एनडीए सरकार ने आंध्र को केंद्र सहायता दुगनी की है।’

बता दें कि, आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिलने से नाराज केंद्र में मोदी सरकार की मुख्य सहयोगी तेलुगू देशम पार्टी (TDP) ने एनडीए से बाहर निकलने का फैसला किया था। अमित शाह ने इसी फैसले पर पत्र लिखकर प्रतिक्रिया दी है। बता दें कि, पार्टी के राज्यसभा में 16 सदस्य हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here