TMC उम्मीदवार के समर्थन में प्रचार करने वाले बांग्लादेशी अभिनेता फिरदौस अहमद का वीजा रद्द, तुरंत भारत छोड़ने का आदेश, मोदी सरकार ने एक्टर को ‘ब्लैकलिस्ट’ भी किया

0

बांग्लादेश के लोकप्रिय अभिनेता फिरदौस अहमद को तुरंत देश से वापस जाने का आदेश दिया गया है और उनका बिजनेस वीजा रद्द कर दिया गया है। दो दिन पहले अभिनेता द्वारा पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के लिए कथित तौर पर चुनाव प्रचार करने से विवाद पैदा हो गया था। एक अधिकारी ने मंगलवार (16 अप्रैल) को समाचार एजेंसी पीटीआई को इस बारे में जानकारी दी।

पश्चिम बंगाल के प्रदेश बीजेपी नेता जय प्रकाश मजूमदार और शिशिर बजोरिया ने शिकायत दर्ज कराने के लिए सोमवार को राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) आरिज आफताब से मुलाकात की और तृणमूल कांग्रेस द्वारा आचार संहिता के कथित उल्लंघन पर उचित कार्रवाई की मांग की।

सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो में दिखा है कि फिरदौस अहमद और बांग्ला कलाकार अंकुश तथा पायल ने रायगंज लोकसभा सीट से तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार कन्हैयालाल अग्रवाल के समर्थन में रोड शो किया। केंद्र ने मंगलवार को ‘लीव इंडिया’ नोटिस जारी किया और अभिनेता को दिया गया बिजनेस वीजा रद्द कर दिया।

पीटीआई के मुताबिक, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अहमद का नाम ‘काली सूची’ में डाल दिया है। इससे भविष्य में भारत की उनकी यात्रा में बाधा आएगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने दिल्ली में कहा, ‘‘बांग्लादेशी नागरिक फिरदौस अहमद द्वारा वीजा उल्लंघन के संबंध में ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन से एक रिपोर्ट मिलने के बाद गृह मंत्रालय ने उनका बिजनेस वीजा रद्द कर दिया है और उन्हें लीव इंडिया नोटिस जारी किया है। उन्हें काली सूची में डाल दिया गया है। एफआरआरओ कोलकाता को इन आदेशों की तामील करने को कहा गया है।’’

यह कदम बांग्लादेश के अभिनेता द्वारा कथित तौर पर चुनाव प्रचार करने को लेकर केंद्र के मंगलवार को कोलकाता के विदेशी क्षेत्रीय पंजीकरण अधिकारी (एफआरआरओ) से रिपोर्ट मांगने के कुछ घंटे बाद उठाया गया है। ऐसी खबरें हैं कि कुछ भारतीय अभिनेताओं के साथ बांग्लादेश के अभिनेता फिरदौस अहमद ने रायगंज से तृणमूल उम्मीदवार कन्हैयालाल अग्रवाल के समर्थन में चुनाव प्रचार में कथित तौर पर हिस्सा लिया था।

वहीं, इस पूरे विवाद पर टीएमसी नेता मदन मित्रा ने कहा, ‘हम 40-45 वर्षों से राजनीति कर रहे हैं। हमने कभी नहीं सुना है कि विदेशी नागरिकों को चुनाव प्रचार में भाग लेने की इजाजत नहीं है। हमें यह जानकारी है कि विदेशी नागरिकों को चुनाव लड़ने का अधिकार नहीं है। हमें यह देखना होगा कि टीएमसी ने उन्हें आधिकारिक रूप से उन्हें प्रचार के लिए आमंत्रित किया था या नहीं।’ (इनपुट- एएनआई और भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here