पांच राज्यों में चुनाव के दौरान PM मोदी के अधिकतर मंत्री कैबिनेट की मीटिंग में रहे गायब, चुनाव प्रचार को दी तरजीह

0

जिस वक्त देश के पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव हो रहे थे, उस वक्त मोदी सरकार के मंत्री कैबिनेट बैठकों से ज्यादा चुनाव प्रचार को तरजीह दे रहे थे। जी हां, यह चौंकाने वाला खुलासा सूचना के अधिकार(आरटीआई) के तहत मांगी गई एक जानकारी के बाद सामने आई है।

फोटो: NDTV

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, आरटीआई से खुलासा हुआ है कि चुनावों के दौरान केंद्र सरकार के मंत्री कैबिनेट बैठक की जगह चुनाव प्रचारों में हाजिरी लगा रहे थे। इन चुनावों के दौरान फरवरी महीने में कैबिनेट की चार अहम बैठक हुई जिसमें ज्यादातर मंत्री नदारद रहे। गौरतलब है कि पांचों राज्यों में प्रधानमंत्री मोदी समेत पूरा कैबिनेट चुनाव प्रचार में उतर गया था।

आरटीआई के तहत प्रधानमंत्री कार्यालय से 30 जनवरी से 23 फरवरी 2017 के बीच मंत्रिमंडल की बैठक और उसमें मौजूद मंत्रियों की पूरी जानकारी मांगी गई थी। जिसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस आवेदन को राष्ट्रपति भवन स्थित मंत्रिमंडल सचिवालय को हस्तांतरित कर दिया।

इस बारे में जानकारी देते हुए मंत्रिमंडल सचिवालय के अवर सचिव के बंद्योपंध्याय ने बताया कि इस दौरान कुल चार अहम बैठक हुई। जिसमें एक फरवरी 2017 की बैठक में 98 प्रतिशत यानी 38 मंत्री मौजूद थे, वहीं 8 फरवरी 2017 को 52 प्रतिशत यानी 20 मंत्री, जबकि 15 फरवरी 2017 को 12 मंत्री(31 प्रतिशत) और 22 फरवरी 2017 को 17 मंत्री(44 प्रतिशत) कैबिनेट की बैठक में मौजूद थे।

इस मामले में आवेदन करने वाले आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली ने बताया कि बैठक में जो मंत्री उपस्थित नहीं थे, उनके नाम की जानकारी मांगने पर मंत्रिमंडल सचिवालय ने देने से इनकार कर दिया। गलगली को तर्क दिया गया कि मंत्रियों के नामों सहित मंत्रिमंडल की बैठकों के उपस्थिति-पत्र मंत्रिमंडल के दस्तावेजों का हिस्सा हैं।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में 11 फरवरी से 8 मार्च के बीच सात चरणों में मतदान हुए थे। वहीं, पंजाब और गोवा में चार फरवरी, उत्तराखंड में 15 फरवरी और मणिपुर में चार और आठ मार्च को दो चरणों में मतदान हुआ था।

 

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here