दिल्ली: साकेत थाने के SHO रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार, यूनिटेक का केस दबाने के लिए वकील से 2 लाख रुपये लेने का आरोप

0

दक्षिणी दिल्ली के साकेत पुलिस थाने के एसएचओ नीरज कुमार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने यूनिटेक बिल्डर के वकील नीरज वालिया से 2 लाख रुपये की कथित रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। सीबीआई ने कथित रिश्वतकांड में 9 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है, जिसमें SHO नीरज कुमार और यूनिटेक के संस्थापक रमेश चंद्रा भी शामिल हैं। जबकि हौजखास थाने का एक इंस्पेक्टर संजय शर्मा फरार है।

(Getty Images/iStockphoto)

एजेंसी ने कहा कि इन दोनों के साथ-साथ रिएलिटी फर्म यूनीटेक लिमिटेड, इसके मालिक और पांच अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। सीबीआई द्वारा दिल्ली में दोनों आरोपियों के आवासों और कार्यालयों सहित विभिन्न स्थानों पर छापा मारने के दौरान दक्षिण दिल्ली के साकेत नगर पुलिस स्टेशन में एसएचओ के पद पर तैनात नीरज कुमार को वकील नीरज वालिया को गिरफ्तार किया। मामला सामने आने के बाद देर रात थानाध्यक्ष को निलंबित कर दिया गया।

युनाइटेड समूह के संस्थापक रमेश चंद्र, उनके बेटे अजय चंद्र, पहले से ही 2 जी घोटाले में आरोपी उसका भाई संजय चंद्र, एसएचओ नीरज कुमार, वकील नीरज वालिया और उपमा चंद्र, सीमा मंगा और प्रदीप कुमार नाम के तीन अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज होने के कुछ ही घंटों के बाद सीबीआई ने छापा मार दिया। जांच एजेंसी ने दर्ज मामले में यूनीटेक को भी नामजद किया है।

सीबीआई ने इस मामले में 9 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है, जिनमें साकेत थाने के एसएचओ नीरज कुमार, हौजखास थाने के इंस्पेक्टर एटीओ संजय शर्मा, वकील नीरज वालिया, यूनिटेक लिमिटेड के फाउंडर रमेश चंद्रा, अजय चंद्रा, उपमा चंद्रा, सीमा मंगा, प्रदीप कुमार और कुछ अज्ञात लोग शामिल हैं। सीबीआई के एक अधिकारी ने कहा कि एसएचओ ने यूनीटेक के खिलाफ साकेत पुलिस स्टेशन में दर्ज मामलों को खत्म करने का वादा किया था।

सीबीआई के बयान के अनुसार, आरोपी व्यक्तियों के दिल्ली में स्थित आवासों और कार्यालयों पर आज (मंगलवार) को छापे मारे जा रहे हैं। बता दें कि यूनिटेक के खिलाफ नोएडा व दिल्ली समेत कई जगह पर मामले दर्ज हैं। बिल्डर के कई प्रोजेक्ट अधर में लटके हुए हैं और कंपनी पर हजारों खरीदारों से करोड़ों रुपये का गबन करने का आरोप है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here