कावेरी जल विवाद: आदेश में बदलाव की मांग के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंची कर्नाटक सरकार

0

कर्नाटक सरकार ने 20 सितंबर के आदेश में बदलाव की मांग करते हुए इस आधार पर सोमवार (26 सितंबर) को उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया कि उसके जलाशयों में पर्याप्त जल नहीं है।

न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने 20 सितंबर को सुनाए गए आदेश में कर्नाटक को निर्देश दिया था कि वह 27 सितंबर तक हर दिन तमिलनाडु के लिए कावेरी नदी का 6000 क्यूसेक पानी छोड़े। शीर्ष अदालत ने निगरानी समिति द्वारा निर्धारित जल की मात्रा में तीन हजार क्यूसेक की बढ़ोत्तरी की है।

Also Read:  कावेरी विवाद : तमिलनाडु में विपक्षी दलों ने किया 'रेल रोको' प्रदर्शन

कर्नाटक ने अपनी ताजा याचिका में उच्चतम न्यायालय के आदेश का पालन करने में विभिन्न आधारों पर असमर्थता जाहिर की। उसने कहा कि उसके पास बेंगलुरु समेत उसके शहरों में आपूर्ति करने के लिए पर्याप्त जल नहीं है।

Also Read:  Cauvery row: PM pained over violence in Karnataka, Tamil Nadu
Congress advt 2

भाषा की खबर के अनुसार, न्यायालय ने 20 सितंबर को केंद्र को भी कावेरी जल विवाद निपटारा न्यायाधिकरण (सीडब्ल्यूडीटी) के निर्देश के अनुरूप चार हफ्तों में कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड (सीडब्ल्यूएमबी) का गठन करने को कहा था।

Also Read:  तमिलनाडु के लिए कावेरी का पानी छोड़ने को तैयार हुआ कर्नाटक

शीर्ष अदालत ने 12 सितंबर को दोनों राज्यों से कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा था। उसने कावेरी जल साझेदारी पर अपने पुराने आदेश में संशोधन किया था और कर्नाटक को तमिलनाडु के लिए 20 सितंबर तक प्रतिदिन 15 हजार क्यूसेक की जगह 12 क्यूसेक पानी छोड़ने का निर्देश दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here