कावेरी जल विवाद: आदेश में बदलाव की मांग के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंची कर्नाटक सरकार

0
>

कर्नाटक सरकार ने 20 सितंबर के आदेश में बदलाव की मांग करते हुए इस आधार पर सोमवार (26 सितंबर) को उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया कि उसके जलाशयों में पर्याप्त जल नहीं है।

न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने 20 सितंबर को सुनाए गए आदेश में कर्नाटक को निर्देश दिया था कि वह 27 सितंबर तक हर दिन तमिलनाडु के लिए कावेरी नदी का 6000 क्यूसेक पानी छोड़े। शीर्ष अदालत ने निगरानी समिति द्वारा निर्धारित जल की मात्रा में तीन हजार क्यूसेक की बढ़ोत्तरी की है।

Also Read:  Congress' Christian MLC forced to shift venue for Diwali celebrations after VHP protests

कर्नाटक ने अपनी ताजा याचिका में उच्चतम न्यायालय के आदेश का पालन करने में विभिन्न आधारों पर असमर्थता जाहिर की। उसने कहा कि उसके पास बेंगलुरु समेत उसके शहरों में आपूर्ति करने के लिए पर्याप्त जल नहीं है।

Also Read:  Tamil Nadu CM J Jayalalithaa meets PM Modi, demands restoration of water level at Mullaperiyar dam

भाषा की खबर के अनुसार, न्यायालय ने 20 सितंबर को केंद्र को भी कावेरी जल विवाद निपटारा न्यायाधिकरण (सीडब्ल्यूडीटी) के निर्देश के अनुरूप चार हफ्तों में कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड (सीडब्ल्यूएमबी) का गठन करने को कहा था।

Also Read:  वीडियो: पाकिस्तानी न्यूज़ एंकर की पीएम मोदी को धमकी कहा, शोलों से न खेलो जल जाओगे

शीर्ष अदालत ने 12 सितंबर को दोनों राज्यों से कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा था। उसने कावेरी जल साझेदारी पर अपने पुराने आदेश में संशोधन किया था और कर्नाटक को तमिलनाडु के लिए 20 सितंबर तक प्रतिदिन 15 हजार क्यूसेक की जगह 12 क्यूसेक पानी छोड़ने का निर्देश दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here