दिल्ली: भैंस लेकर जा रहे तीन लोगों के साथ मारपीट, केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी की संस्था पर आरोप

0

देश की राजधानी दिल्ली में शनिवार(22 अप्रैल) को भैंस लेकर जा रहे लोगों के साथ मारपीट का मामला सामने आया है। दक्षिण दिल्ली के संभ्रांत इलाके में तीन लोगों को पशु अधिकार संगठन के कथित कार्यकर्ताओं द्वारा बेरहमी से पीटा गया है। पुलिस ने दोनों ही पक्षों की ओर से मामला दर्ज कर लिया है। हालांकि, इस पूरे मामले में दिल्ली पुलिस ने गोरक्षक दल की भूमिका होने से इंकार किया है। 

फिलहाल पुलिस उन लोगों ने पूछताछ कर रही है जो कथित तौर पर उन भैंसों को गुड़गांव से गाजीपुर मंडी लेकर जा रहे थे। पुलिस अधिकारी ने बताया कि सभी भैंस बुरी हालत में थीं। पिटाई में जख्मी लोगों को ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) में इलाज चल रहा है। तीनों युवकों के नाम रिजवान, आशु और कामिल हैं।

Also Read:  देखें तस्वीरें: गोल्डन ग्लोब्स के रेड कार्पेट पर प्रियंका चोपडा का जलवा

पुलिस अधिकारी रामिल बनिया ने माना कि पीड़ितों को हल्की चोटें आई हैं और उन्हें एम्स में भर्ती करवाया गया है। वहीं, उन्होंने यह भी कहा कि हमला करने वालों के खिलाफ कोई शिकायत अभी तक दर्ज नहीं की गई है। इस मामले में जिस पशु अधिकार संगठन का नाम सामने आया है उसका नाम है- ‘पीपल फॉर एनिमल्स(PFA)’।

Also Read:  बीजेपी विधायक स्वामी प्रसाद मौर्या ने कहा- 'ईवीएम नहीं मायावती की सोच ही खराब है'

पुलिस ने कहा NGO पीपल फॉर एनिमल्स दिल्ली में काफी समय से पशुओं के खिलाफ होने वाले अत्याचार पर काम कर रहा है। ये लोग गोरक्षक नहीं हैं। बता दें कि यह संस्था केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी द्वारा चलाया जाता है। हालांकि, PFA की चेयरमैन मेनका गांधी के कार्यालय की ओर से कहा गया है कि हमलावरों का उनकी संस्था से कोई लेना देना नहीं है।

Also Read:  सिक्किम में सरकारी कार्यक्रमों में बोतलबंद पानी पर रोक

वहीं, कार्यकर्ताओं ने किसी के साथ मारपीट की घटना से इंकार किया है। कार्यकर्ताओं का कहना है कि उन्होंने भैंस ले जा रहे लोगों पर हमला नहीं किया। पीएफए के गौरव गुप्ता ने दावा किया कि ‘हमें भैंसों के अमानवीय तरीके से ले जाए जाने के बारे में सूचना मिली थी। जिसके बाद हमने ट्रक का पीछा किया। उसके बाद हममने पुलिस कंट्रोल रूम में शिकायत की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here