दिल्ली में चल रहा था गुप्त कैसिनो, प्रॉपटी डीलर्स, ट्रांसपोर्टर्स, बिजनेसमेन और उद्योगपति थे मेम्बर

0
दिपावली से पहले ही दिल्ली वालो के लिए जुए का इंतेज़ाम बड़े स्तर पर किया जा रहा था। दिल्ली पुलिस ने रविवार सुबह दक्षिण दिल्ली के सैनिक फार्म इलाके में गुपचुप तरीके से चल रहे कैसिनो का भंडाफोड़ किया है और 36 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार किए गए लोगों में कई व्यापारी और रसूखदार लोग शामिल हैं। पुलिस ने छापेमारी के दौरान कैसिनो से 1 करोड़ 36 लाख रुपये की कीमत के टोकन समेत 11 महंगी गाड़ियां भी जब्त की हैं।
Photo: Aaj Tak
Photo: Aaj Tak
प‍ुलिस के मुताबिक, दक्षिणी दिल्‍ली के सैनिक फॉर्म्‍स का एक सुनसान फॉर्महाउस रात 10 बजे के बाद कैसिनो में बदल जाता था, जहां दक्षिणी दिल्‍ली के हाई-प्रोफाइल कारोबारी जुआ खेलते थे। नाइट पैट्रोलिंग करने वाले अधिकारी द्वारा औचक छापे में इस गैरकानूनी ऑपरेशन का भंडाफोड़ हुआ। मौके पर से 19 जुआरी, जिसमें से ज्‍यादातर कारोबारी हैं, पांच आयोजकों और 12 स्‍टाफर्स को गिरफ्तार किया गया है। छापे के दौरान 1.37 करोड़ के चिप्‍स, 11 लग्‍जरी कारें, विदेशी शराब की 23 बोतलें और 250 ताश की गड्डियां बरामद की गई हैं।
पुलिस पूछताछ में पता चला कि यहां जुआ खेलने के लिए बकायदा 5 लाख रुपये एंट्री फीस जमा करनी पड़ती थी। जिसके बाद 5 लाख रुपये के बदले खिलाड़ी को टोकन या काउंटर मनी दी जाती थी। नए सदस्‍य को पहले के दो सदस्‍य लेकर आते थे। कैसिनो में ब्‍लैकजैक, रिवोली और रूलेट खेलने के लिए मेजें लगी थीं और 1,000 रुपए से लेकर 1 लाख रुपए तक के चिप्‍स मुहैया कराए जाते थे।
गिरफ्तार किए गए कई लोग गुड़गांव, फरीदाबाद और दिल्ली के प्रतिष्ठित व्यापारिक घराने के हैं। अधिकारी के अनुसार गिरफ्तार किए गए लोगों में खिलाड़ी, टेबल अटैंडेंट और कैसिनो के मालिक शामिल हैं।
कैसिनो चला रहे लोगों ने इस कोठी को हरेंद्र कौशिक नाम के शख्स से किराए पर लिया हुआ था। घटना के बाद से हरेंद्र कौशिक फरार है। घटना को लेकर यहां के नेब सराय पुलिस थाने में दिल्ली जुआ अधिनियम और दिल्ली आबकारी अधिनियम के तहत दो अलग अलग मामले दर्ज किए गए। पुलिस के अनुसार कोठी को सील करने के लिए जल्द आगे की कार्यवाही की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here