‘आप सांप्रदायिक मानसिकता के रोग से पीड़ित दंगाई भी है, आप जैसे दंगाइयों की कंपनी का सिम हम नही चला सकते’, एयरटेल के खिलाफ व्हाट्सएप्प पर तेजी से वायरल हो रहा मैसेज

0

पिछले दिनों उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की रहने वाली एक युवती द्वारा किए गए ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर बड़े विवाद को जन्म दे दिया। यह विवाद अभी भी थमने का नाम नहीं ले रहा है। दरअसल पूजा सिंह नाम की युवती ने एयरटेल के तकनीकी प्रतिनिधि की सेवा इसलिए लेने से इनकार कर दिया, क्योंकि प्रतिनिधि मुसलमान था। पूजा ने इस मामले में ट्वीट कर एयरटेल से गुजारिश करते हुए कहा कि उसके पास कोई हिंदू प्रतिनिधि भेजें।

पूजा की शिकायत सुनने के बाद एयरटेल ने फौरन उनका एग्जीक्यूटिव बदल दिया और समस्या का सामाधान किया।एयरटेल के इस कदम के बाद सोशल मीडिया पर कंपनी की काफी आलोचना की जा रही है। कई ट्विटर यूजर्स ने एयरटेल पर सवाल उठाए है। विरोध इतना बढ़ा गया कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी एयरटेल की आलोचना की।

इस बीच अब लोकप्रिय मैसेजिंग एप्प व्हाट्सएप्प पर एयरटेल के खिलाफ एक मैसेज तेजी से वायरल हो रहा है। वायरल मैसेज में लोग एयरटेल कंपनी की सिम को बंद करने की अपील कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि अब पुष्टि हो चुकी कि एयरटेल साम्प्रदायिक मानसिकता के रोग से पीड़ित दंगाई भी है, इसलिए दंगाइयों की कम्पनी का सिम हम नही चला सकते।

व्हाट्सएप्प पर वायरल हो रहा मैसेज

एयरटेल कम्पनी के कस्टमर केयर में पूजा नाम की लड़की ने शिकायत दर्ज कराने के लिए कॉल किया, सामने से कॉल अटेंड किया executive शोएब ने… बस फिर क्या था, पूजा के अंदर का भगवा कीड़ा कुलबुला उठा। उसने कम्पनी से शिकायत कर दी कि मुसलमान executive नही चाहिए। भगवे कट्टरपंथ के रोग से एयरटेल कम्पनी भी ग्रसित थी, उसने सांप्रादायिक कार्यवाही करते हुए “शोएब” को हटाकर पूजा के लिये गगनजोत नाम के executive को लगाया दिया गया।

खबर देने का मकशद ये है कि अब आप लोग अपने मोबाइल से एयरटेल की सिम को रुखसत कर दीजिए। आप जब पोर्ट का मैसेज करेंगे तब आपके पास ऐयरटेल से कॉल आएगा, वे आपसे असन्तुष्ट होने का कारण पूछेंगे तब कहना कि “आप चोर थे, ठग थे, मक्कार थे, हमने आपके तमाम ऐबो के बावजूद आपको झेला.. लेकिन अब पुष्टि हो चुकी की आप साम्प्रदायिक मानसिकता के रोग से पीड़ित दंगाई भी है, इसलिए आप जैसे दंगाइयों की कम्पनी का सिम हम नही चला सकते। आप दिल से दिल जोड़ने का स्लोगन देकर मार्किट में उतरे थे लेकिन अब कम्युनल बनकर देश के रोज़ खाने कमाने वाले नागरिकों को हिन्दू-मुस्लिम के नाम पे तोड़ने वाले टुच्चो हो चुके है।

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, पूजा ने अपने घर पर एयरटेल डिजिटल टीवी का कनेक्शन ले रखा है। नेटवर्क में कुछ समस्या के चलते उसने एयरटेल में शिकायत की। एयरटेल की टीम की ओर से सोमवार दोपहर करीब तीन बजे शोएब नामक प्रतिनिधि को पूजा के घर जाने को कहा गया। लेकिन जिस कस्टमर केयर एग्जीक्यूटिव ने पूजा सिंह को समस्या का समाधान करने का आश्वासन दिया वह एग्जीक्यूटिव एक मुस्लिम था और उनका नाम शोएब था। शोएब से रिप्लाई मिलने के बाद पूजा असंतुष्ट रही और शोएब के धर्म पर सवाल उठाते हुए पूजा ने दूसरा ट्वीट करते हुए कंपनी से हिंदू रिप्रजेंटेटिव की मांग की।

पूजा ने ट्वीट कर लिखा, ‘प्रिय शोएब, आप मुस्लिम हैं और मुझे आपके काम की नैतिकता पर यकीन नहीं है, क्योंकि उपभोक्ताओं की सेवाओं के लिए कुरान में अलग बातें हो सकती हैं। इसलिए एयरटेल से मेरी दरख्वास्त है कि मुझे एक हिंदू प्रतिनिधि उपलब्ध कराया जाए।’

एयरटेल ने पूजा से गगनजोत (सिख प्रतिनिधि) को भेजने को लेकर चर्चा की तो इस पर पूजा राजी हो गईं। पूजा के मुस्लिम प्रतिनिधि से बात करने के ट्वीट के बाद एयरटेल के ट्विटर हैंडल @Airtel_Presence से अगला ट्वीट कर लिखा गया , ”पूजा जैसी कि आपसे बात हुई। आप बताइए कि आपसे बात करने का सही वक्त क्या रहेगा। हमसे अपना फोन नंबर भी साझा कीजिए ताकि आपकी मदद की जा सके।”

एयरटेल के इस कदम के बाद सोशल मीडिया पर कंपनी की काफी आलोचना की जा रही है। कई ट्विटर यूजर्स ने एयरटेल पर सवाल उठाए है। विरोध इतना बढ़ा गया कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी एयरटेल की आलोचना की।

उमर अब्दुल्ला ने एयरटेल को आड़े हाथ लेते हुए ट्वीट किया, ”एयरटेल मैंने अपनी टाइमलाइन पर पूरी बातचीत पढ़ी। मैं अब कंपनी को एक रुपया नहीं दूंगा। मैं अपना नंबर पोर्ट करवाने की शुरुआत कर रहा हूं। इसके साथ ही डीटीएच और ब्रॉडबैंड की सुविधाएं भी बंद कर रहा हूं।”

वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने भी ट्वीट कर लिखा है, ”एंटी-मुस्लिम पूजा सिंह खुद को भारतीय सेना की फैन बता रही है। पूजा ने भारतीय सेना की वर्दी को शर्मिंदा किया है।” बता दें कि पूजा ने अपने ट्विटर बायो में खुद को प्राउड भारतीय, प्राउड हिंदू और सेना को प्यार करने वाली भी बताई हैं, जिनके लिए राष्ट्र सबसे पहले है।

अली खान नाम के यूजर ने लिखा, ”ये हिंदू है वो मुस्लिम है। इंसान कहां है क्या जाने।” इसके अलावा उमर आर कुरैशी नाम के यूजर ने लिखा है, ”एयरटेल इंडिया ने मुस्लिम कस्टमर केयर एक्जीक्यूटिव को मुस्लिम से हिंदू में बदल दिया। शर्मनाक।”

वहीं नवीन तिवारी नाम के एक अन्य यूजर ने लिखा, ‘मैं भी हिंदू हूं। मुझे भविष्य में जब भी एयरटेल सर्विस के लिए प्रतिनिधि की जरूरत पड़े तो कृपया शोएब को ही भेजें। पूजा सिंह के केस को किसी मानसिक रोग विशेषज्ञ के पास भेजें, उनके लिए प्रतिनिधि बदलने की जरूरत नहीं है बल्कि उन्हें अपना दिमाग बदलने की जरूरत है।’

सोशल मीडिया पर विवाद बढ़ने के बाद एयरटेल इंडिया ने सफाई दी है। एयरटेल का कहना है कि वह किसी भी उपभोक्ता और कर्मचारी के साथ जाति या धर्म के आधार पर कोई भेदभाव नहीं करती है। कंपनी ने निवेदन करते हुए कहा है कि इस घटना को ‘मजहबी रंग’ न दिया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here